एटीएम भरने वाले कर्मचारी बैंक को लगाते थे चूना, पैसे निकालकर अपने कामों में करते थे इस्तेमाल

Spread the love

इंदौर। इंदौर के परदेशीपुरा में एसबीआई के एटीएम से चोरी हुए हुए 21 लाख रुपए के मामले में चौंकाने वाला मामला सामने आया है। बताया जा रहा है कि एटीएम में नोट भरने वाले एसआईएस कंपनी के दो कर्मचारी अंकित सोलंकी और विजय जिनवाल ने ही इस रकम को एटीएम से साफ कर डाला।

बैंक के पैसे को अपने कामों में करते थे इस्तेमाल

पुलिस पूछताछ के दौरान उन्होंने बताया कि वे दो एटीएम से 10.5 लाख रुपए निकाल चुके थे और एटीएम  से निकाले गए पैसों को ब्याज पर चलाते और अपने लोन की किस्त जमा करते थे. साथ ही जब उनके पास रकम वापस आ जाती तो पैसों को एटीएम में दोबारा डाल देते.

कम उपयोग आने वाले एटीएम को करते थे टारगेट

दोनों आरोपियों ने बताया कि वे बैंक अधिकारियों की लापरवाही का फायदा उठाकर घटना को अंजाम देते थे।आरोपियो के मुताबिक बैंक अधिकारी मॉनिटरिंग में सिर्फ कितने रुपए जमा हुए वह आंकड़ा देखते हैं, इसलिए कर्मचारी सिस्टम में राशि गलत फीड कर देते हैं। पूछताछ में आरोपियों ने बताया कि वे कम उपयोग में आने वाले एटीएम को टारगेट कर उसमें से रुपया निकालकर मशीन में गलत जानकारी फीड कर देते थे।

बैंक अधिकारियों की लापरवाही का उठाते थे फायदा

पुलिस के मुताबिक बैंक में लंबे समय से ऑडिट नहीं होने का फायदा उठाकर ये दोनों कर्मचारी बैंक के ही रुपयों को लोन चुकाने व अन्य कामों में इस्तेमाल कर लेते थे। बाद में पासवर्ड और की के जरिए रुपयों को वापस एटीएम में जमा कर देते थे।

कर्मचारी की रिपोर्ट पर हुआ खुलासा

पुलिस के अनुसार एटीएम में इतना बढ़ा घोटाला होने के बावजूद घटना में एफआईआर तक दर्ज करवाने के लिए न तो बैंक की तरफ से कोई आया ना ही रुपया जमा करवाने वाली कंपनी की ओर से किसी ने ज्यादा रुचि दिखाई। वहीं पुलिस ने कंपनी के ही कर्मचारी की रिपोर्ट पर यह फर्जीवाड़े का खुलासा किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *