एमपी: बीजेपी के खरबपति विधायक संजय पाठक पर बड़ी कार्रवाई, दो माइंस सीज

Spread the love

भोपाल/जबलपुर. मध्य प्रदेश ही नहीं, बल्कि देश के चंद धनाढ्य राजनेताओं में शुमार एमपी के कटनी जिले के विजयराघवगढ़ के बीजेपी विधायक संजय पाठक के परिवार पर बड़ी कार्रवाई हुई है. जबलपुर जिले के सिहोरा तहसील स्थित दो आयरन ओर खदानों को शनिवार की देर शाम जबलपुर कलेक्टर के आदेश पर सीज कर दिया गया है. यह कार्रवाई सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर की गई है.

उल्लेखनीय है कि संजय पाठक शिवराज सिंह चौहान के सरकार में मंत्री रहे हैं. अब संजय पाठक की खनन कंपनी पर सरकार ने बड़ी कार्रवाई की है. जबलपुर स्थित मेसर्स निर्मला मिनरल्स को सील कर दिया गया है. जबलपुर कलेक्टर ने इसके संबंध में आदेश जारी कर दिया है. इस फर्म की जांच के लिए अनुविभागीय अधिकारी (राजस्व) सिहोरा, अनुविभागीय अधिकारी (वन) सिहोरा, प्रभारी अधिकारी (खनिज शाखा) जबलपुर, तहसीलदार सिहोरा, नयाब तहसीलदार मझगवां और राजस्व निरीक्षक मझगवां एवं संबंधित हल्का पटवारी को शमिल किया गया है. उनकी कंपनी पर अवैध खनन के आरोप हैं.

यह है जबलपुर के कलेक्टर का आदेश

जबलपुर कलेक्टर के द्वारा जारी पत्र में लिखा गया है कि माननीय सर्वोच्च न्यायालय के पारित आदेश के परिप्रेक्ष्य में मेसर्स निर्मला मिनरल्स को सील कर तत्काल आवश्यक जांच के लिए टीम गठित की गई है. जबलपुर के सिहोरा में चल रही ग्राम दुबियारा की आयरन खनिज पट्टा को तत्काल बंद करवा दिया गया है. विधायक संजय पाठक की कंपनी पर वनभूमि के जमीनों पर अवैध खनन करने का आरोप लगा है. दरअसल विधायक संजय पाठक मध्यप्रदेश में खनन का काम करते हैं. उनके ऊपर अवैध खनन के आरोप लगते रहे हैं. वे शिवराज सिंह के शासन काल में राज्य मंत्री थे. संजय पाठक विजयराघवगढ़ से विधायक हैं.

2500 करोड़ से ज्यादा की संपत्ति के मालिक हैें संजय

संजय पाठक के पास अकूत संपत्ति भी है. वह मध्यप्रदेश से बीजेपी के सबसे अमीर विधायक हैं. उनके पास करीब दो सौ पच्चीस करोड़ रुपये से ज्यादा की संपत्ति है. चुनावों के दौरान उनकी संपत्ति की चर्चा भी खूब हुई थी, क्योंकि 2013 में उनकी संपत्ति 121.32 करोड़ रुपये की थी. वहीं 2018 में 222.54 करोड़ रुपये की हो गई. यानी पांच साल में संजय पाठक की संपत्ति 104.2 करोड़ रुपये बढ़ी.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *