मध्य प्रदेश: 200 किस्म के पंछियों के बीच एक और टाइगर सफारी बनाने की तैयारी

Spread the love

जबलपुर। अब तक पर्यटन के नक्शे से गायब जबलपुर के दिन शायद फिर सकते हैं. प्रदेश में कान्हा, बांधवगढ़, पेंच और पन्ना के बाद जबलपुर में भी शेर की दहाड़ सुनने को मिल सकती है. डुमना नेचर रिजर्व में टाइगर सफारी बनाने की तैयारी है.

डुमना में संभावना

जबलपुर को भी टाइगर सफारी की सौगात मिल सकती है. डुमना नेचर पार्क को टाइगर सफारी बनाने की संभावना तलाशी जा रही है. नेचर पार्क करीब 2 हज़ार एकड़ में फैला है. स्थानीय विधायक और वित्त मंत्री तरुण भानोत खुद इसमें दिलचस्पी ले रहे हैं. उनके निर्देश पर डुमना नेचर रिजर्व की डीपीआर तैयार की जा रही है. अगर सब कुछ ठीक रहा तो अगले साल तक टाइगर सफारी बनकर तैयार होने की उम्मीद है.
डुमना नेचर रिजर्व जबलपुर से महज़ 15 किलोमीटर दूर है. इस घने जंगल में अभी टाइगर के सिवाय लगभग सभी जंगली जानवर हैं.

अब बनी बात
यहां टाइगर सफारी बनाने की मांग करीब 10 साल से की जा रही है. हर बार बात आगे तो बढ़ी लेकिन मुकम्मल न हो सकी. इस बार सरकार के मंत्री ने शहर की इस मांग को सुना और बात आगे बढ़ी.

200 किस्म के पंछी
यहां टाइगर सफारी के प्रोजेक्ट प्रभारी के मुताबिक डुमना नेचर पार्क में वो सब कुछ है, जो किसी टाइगर सफारी के लिए जरूरी है. यहां वॉटर बॉडी के साथ करीब 200 से अधिक किस्म के पक्षी भी हैं. अगर यहां टाइगर सफारी बन जाता है तो ये अच्छा-खासा टूरिस्ट प्लेस बन सकता है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *