जल समाधि लेने भोपाल पहुंचे मिर्ची बाबा को पुलिस ने होटेल में ही किया ‘नजरबंद’

Spread the love

भोपाल। लोकसभा चुनाव के दौरान वैराग्यनंद गिरी उर्फ मिर्ची बाबा ने कहा था कि अगर दिग्विजय सिंह चुनाव हारे तो वह जल समाधि लेंगे। चुनाव में दिग्विजय सिंह हार गए और अब वादे के मुताबिक, मिर्ची बाबा रविवार को भोपाल पहुंच गए हैं। हालांकि, उनको ऐसा करने से रोकने के लिए मध्य प्रदेश पुलिस लगातार उनकी निगरानी कर रही है।

इससे पहले मिर्ची बाबा ने 14 जून को जिला कलेक्टर को पत्र लिखकर रविवार दोपहर 2.11 मिनट के मुहूर्त पर जल समाधि लेने की अनुमति मांगी थी। हालांकि, भोपाल कलेक्टर तरुण कुमार पिथोड़े ने इसकी अनुमति देने से इनकार कर दिया और पुलिस को बाबा के जानमाल की सुरक्षा करने को कहा। इसके तहत भोपाल के बड़े तालाब पर शीतलदास की बगिया पर पुलिसकर्मी तैनात थे।

होटेल में ही नजरबंद हुए मिर्ची बाबा
मिर्ची बाबा रविवार को दोपहर 2.11 बजे के तय मुहूर्त पर जल समाधि लेने तालाब में नहीं पहुंच सके क्योंकि पुलिस ने उन्हें होटेल से नहीं निकलने दिया। पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि बाबा को जल समाधि लेने नहीं दिया जा सकता और इसकी अनुमति भी नहीं दी जाएगी क्योंकि इस प्रकार की अनुमति देने का कोई प्रावधान ही नहीं है। बाबा के अधिवक्ता माजिद अली ने कहा, ‘गुवाहाटी के कामाख्या मंदिर में तपस्या के बाद बाबा भोपाल हवाई अड्डे पर उतरे हैं और इसके बाद से ही पुलिस लगातार उनकी निगरानी कर रही है।’

मालूम हो कि दिग्विजय को जिताने के लिए यज्ञ करते समय बाबा वैराग्यनंद ने ऐलान किया था कि यदि सिंह लोकसभा चुनाव में भोपाल सीट से चुनाव नहीं जीते तो वह (बाबा वैराग्यनंद) समाधि ले लेंगे। उनकी इस घोषणा के बाद निरंजनी अखाड़े ने उन्हें राजनीति करने के आरोप में अखाड़े से निष्कासित कर दिया। बाबा वैराग्यनंद ने रविवार को भोपाल में कहा कि अपनी घोषणा के अनुसार, वह जल समाधि लेना चाहते हैं लेकिन प्रशासन ने इसकी अनुमति नहीं दी है। उन्होने कहा कि वह एक दफा फिर प्रशासन से इसकी अनुमति मांगगे। इस चुनाव में दिग्विजय सिंह को बीजेपी की प्रत्याशी साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर ने 3.64 लाख से अधिक मतों से बुरी तरह से पराजित कर दिया, जिसके बाद बाबा वैराग्यनंद से समाधि लेने को लेकर काफी सवाल उठने लगे थे और फिर वह अचानक गायब हो गए थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *