कोविड-19 पर नियंत्रण के लिए काॅन्टैक्ट ट्रेसिंग व सर्विलांस सिस्टम को पूरी सक्रियता से निरन्तर जारी रखने के निर्देश

वरिष्ठ संवाददाता अभिषेक गौड़ की रिपोर्ट

लखनऊ-

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी ने कहा कि एकीकृत कमाण्ड एण्ड कण्ट्रोल सेण्टर पूर्ण क्षमता के साथ संचालित रहें। इनकी माॅनीटरिंग जिलाधिकारी व सी0एम0ओ0 द्वारा की जाए। उन्होंने कहा कि कोविड-19 के सम्बन्ध में ‘जब तक दवाई नहीं, तब तक ढिलाई नहीं’ के संदेश को समझते हुए निरन्तर कार्य करना होगा।
मुख्यमंत्री जी आज यहां अपने सरकारी आवास पर आहूत एक उच्चस्तरीय बैठक में अनलाॅक व्यवस्था की समीक्षा कर रहे थे। उन्होंने कहा कि कोविड-19 के प्रतिदिन 100 से अधिक की संख्या में सक्रिय केसेज वाले जनपदों में स्थानीय स्तर पर रणनीति बनाकर नियंत्रण की कार्यवाही की जाए। पब्लिक एडेªस सिस्टम के माध्यम से कोविड से बचाव व सड़क सुरक्षा के सम्बन्ध में जागरूक किया जाए। धान क्रय केन्द्रों पर कोविड-19 प्रोटोकाॅल तथा सोशल डिस्टेन्सिंग का पालन हर हाल में सुनिश्चित हो।
मुख्यमंत्री जी ने कहा कि इस समय स्वच्छता व सैनिटाइजेशन का विशेष अभियान चलाया जा रहा है, जो 16 अक्टूबर, 2020 तक जारी रहेगा। इस अभियान के तहत प्रदेश के सभी शहरी व ग्रामीण इलाकों में स्वच्छता व सैनिटाइजेशन सम्बन्धी कार्य किए जाएं। यह सुनिश्चित किया जाए कि अभियान के दौरान साफ-सफाई, एन्टी लार्वा रसायनों व चूने आदि के छिड़काव का कार्य हो। उन्होंने इस अभियान के तहत सभी कार्यों की माॅनीटरिंग किए जाने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि 15 अक्टूबर, 2020 को वल्र्ड हैण्ड वाॅश डे के अवसर पर विशेष अभियान चलाते हुए कार्यक्रम संचालित किए जाएं।
मुख्यमंत्री जी ने सामुदायिक शौचालय व ग्राम पंचायत भवन का निर्माण कार्य तेजी से किए जाने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि सब्जियों के अधिक दामों पर नियंत्रण के लिए जिलाधिकारियों द्वारा कार्यवाही की जाए।
इस अवसर पर मुख्य सचिव श्री आर0के0 तिवारी, अवस्थापना एवं औद्योगिक विकास आयुक्त श्री आलोक टण्डन, कृषि उत्पादन आयुक्त श्री आलोक सिन्हा, अपर मुख्य सचिव गृह श्री अवनीश कुमार अवस्थी, पुलिस महानिदेशक श्री हितेश सी0 अवस्थी, अपर मुख्य सचिव एम0एस0एम0ई0 एवं सूचना श्री नवनीत सहगल, अपर मुख्य सचिव स्वास्थ्य श्री अमित मोहन प्रसाद, अपर मुख्य सचिव चिकित्सा शिक्षा डाॅ0 रजनीश दुबे, अपर मुख्य सचिव ग्राम्य विकास एवं पंचायतीराज श्री मनोज कुमार सिंह, सचिव मुख्यमंत्री श्री आलोक कुमार, सूचना निदेशक श्री शिशिर सहित अन्य वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।