प्रदेश स्तरीय रैकिंग में जालौन को मिला पांचवा स्थान

जालौन से राहुल दुबे की रिपोर्ट


19-20 के 30 हेल्थ इंडीकेटर के आधार पर बनाई गई रैकिंग
जालौन, 6 सितंबर 2020 ।
प्रदेश स्तर पर चिकित्सा स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण की ओर से तीस इंडीकेटर (संकेतांकों) पर आधारित रिपोर्ट में जनपद जालौन को प्रदेश में पांचवा स्थान मिला है। वित्तीय वर्ष 2019-20 में 30 इंडीकेटर पर आधारित डीपीएम रेकिंग, यूपी हेल्थ डैशबोर्ड पर 14 इंडीकेटर के आधार पर जनपदों की रैकिंग और जिला स्वास्थ्य समिति की शासी निकाय और कार्यकारी समिति की बैठकों के कार्यवर्त की गुणवत्ता के आधार पर जनपदों की रैकिंग को आधार बनाते हुए ओवरआल इंडेक्स वैल्यू की गणना की गई है। इंडेक्स वैल्यू के आधार पर जनपद एवं मंडल स्तर की रैकिंग तैयार की गई है। इस रैकिंग में झांसी मंडल प्रथम स्थान पर है। जबकि प्रदेश के पांच टाप जनपदों में जालौन का स्थान भी है।
एनएचएम के जिला कार्यक्रम प्रबंधक (डीपीएम) डा. प्रेम प्रताप ने बताया कि राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन (एनएचएम) मातृत्व स्वास्थ्य, नवजात शिशु स्वास्थ्य, नियमित टीकाकरण, राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम, परिवार नियोजन, राष्ट्रीय शहरी स्वास्थ्य मिशन, क्वालिटी एश्योरेंस, आयुष, गैर संचारी रोग, संचारी रोग, कम्युनिटी प्रोसेस, एमआईएस पोर्टल फीडिंग, योजनाओं का अनुश्रवण समेत 30 बिंदुओं पर जारी की गई रैकिंग में जालौन को प्रदेश में पांचवा स्थान मिला है। इसके अलावा जनपद स्तर पर यूपी हेल्थ डैशबोर्ड के 14 इंडीकेटर में प्रसव उपरांत देखभाल, संस्थागत प्रसव, सेजेरियन डिलेवरी, क्षय रोग चिह्नीकरण, एचआईबी स्क्रीनिंग, प्रसव के दौरान हेपेटाइटिस बी की जांच, परिवार नियोजन, संपूर्ण टीकाकरण, आशा को प्रोत्साहन राशि भुगतान आदि में जनपद में उल्लेखनीय कार्य किया है। उन्होंने बताया कि जनपद में डीपीएम रैकिंग में 0.3 प्रतिशत, डैशबोर्ड रैकिंग में .54 प्रतिशत, स्वास्थ्य समिति की बैठक में .89 प्रतिशत और ओवरआल इंडेक्स वैल्यू में .57 प्रतिशत अंक मिले है। उन्होंने बताया कि यह सूची बीती 4 सितंबर को एनएचएम की मिशन निदेशक की ओर से जारी की गई है। इसमें पहले स्थान पर शामली, दूसरे पर उन्नाव, तीसरे पर प्रयागराज, चौथे पर मैनपुरी और पांचवे पर जालौन का स्थान है। मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा. अल्पना बरतारिया ने कहा कि सामूहिक प्रयास के चलते यह संभव हो पाया है।