भाजपा कार्यालय के सामने महिला ने आत्मदाह करने का प्रयास किया।

लखनऊ से वरिष्ठ संवाददाता अभिनव शर्मा की रिपोर्ट

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ महिलाओं के सम्मान और सुरक्षा को लेकर “मिशन शक्ति” की कल ही लोक भवन में हाई लेवल मीटिंग करी। लेकिन आज राजधानी लखनऊ के हजरतगंज स्थित भाजपा प्रदेश कार्यालय के पास पीड़िता अंजलि उर्फ ज्योति तिवारी ने पेट्रोल डालकर आत्महत्या करने का प्रयास किया। अंजली का कहना है कि उसकी शादी 8 वर्ष पहले अखिलेश तिवारी नामक निवासी महाराजगंज के साथ हुई थी । उसकी नशे की आदत को लेकर संबंध समाप्त हो गए थे। महाराजगंज में किराए के मकान मे अकेले रहती थी। वही मेरी मित्रता आसिफ रजा से हुई। जिसमें मुझे बहला-फुसलाकर मेरी इच्छा के विरुद्ध शारीरिक संबंध बनाए गर्भधारण होने के बाद मैंने शादी का दबाव बनाने के बाद आसिफ रजा ने अपने घर में मौलवी को बुलाकर निकाह कर लिया । मुझ पर दबाव बनाकर मेरा धर्म परिवर्तन कराने की भी कोशिश करने लगा। मुझे दवा खिलाकर गर्भ को भी नष्ट करा दिया। फिर मुझे महाराजगंज से लाकर गोरखपुर नकहा स्टेशन के पास रहने लगा। मुझ पर दबाव डालकर अंजलि तिवारी से आयशा बेगम नाम रख कर मेरा धर्म भी परिवर्तन करा दिया। मुझे जान से मारने की धमकी वा छोड़कर जाने की बात कहने लगा। मुझे घर से भी मारपीट कर भगा दिया । मैने महाराजगंज पुलिस को भी बताया लेकिन कोई कार्यवाही ना होने के कारण मैं बहुत परेशान हो गई। मैंने आत्मदाह का प्रयास किया लेकिन मौके पर हजरतगंज पुलिस ने पहुंचकर पीड़िता अंजली तिवारी को बचाकर सिविल हॉस्पिटल में भर्ती करा दिया। जहां हालत स्थिर बनी हुई है।