मानसिक रोगों को गंभीरता से लें, समय से इलाज कराए विश्व अल्जाइमर दिवस पर वृद्धाश्रम में संगोष्ठी का आयोजन किया

जालौन से वरिष्ठ संवाददाता राहुल दुबे की रिपोर्ट
राठ रोड स्थित वृद्ध आश्रम में विश्व अल्जाइमर दिवस संगोष्ठी का आयोजन किया गया। इसमें वृद्धजनों को अल्जाइमर रोग के लक्षण बताए गए। इस दौरान 17 लोगों की जांच की गई। इसमें पांच बुजुर्गों में बीमारी के लक्षण मिले।
जिला पुरुष चिकित्सालय के मानसिक स्वास्थ्य इकाई की क्लीनिकल साइकोलाजिस्ट डा. अर्चना विश्वास ने अल्जाइमर रोग के बारे में जानकारी दी। उन्होंने बताया कि लक्षणों के आधार पर इस रोग को पहचाना जा सकता है। रोगी को छोटी छोटी बातों भूलना, फोन नंबर भूल जाना, घर का पता भूल जाना, हाथ पैर में कंपन होना, याददाश्त में कमी आना गुमसुम हो जाना, चिड़चिड़ापन होना, डर लगना, नींद ना आना प्रमुख है। इन लक्षणों को गंभीरता से लेना चाहिए। उन्होंने बताया कि रोगी को कभी अकेला नहीं छोडऩा चाहिए, उसकी गतिविधियों पर नजर रखनी चाहिए उसका मनोबल बढ़ाना चाहिए। टीम ने वृद्धजनों की मानसिक स्क्रीनिंग की और उन्हें उचित परामर्श प्रदान दिया। बताया कि हमें अपनी जीवनशैली में परिवर्तन लाना चाहिए, नशे के सेवन से बचें सुबह शाम टहलना पौष्टिक आहार ले। व्यायाम करना चाहिए और जरूरत पडऩे पर फिजियोथैरेपी कराएं किसी भी प्रकार की मानसिक समस्या होने पर जिला अस्पताल के मानसिक स्वास्थ विभाग में बने मनकक्ष में सोमवार, बुधवार, शुक्रवार को आकर उचित परामर्श एवं उपचार ले सकते हैं। इसके साथ ही मानसिक स्वास्थ्य की हेल्पलाइन नंबर 8738830715 पर भी संपर्क किया जा सकता है। स्वास्थ्य विभाग की ओर से वृद्ध जनों को फल वितरित किए गए। इस दौरन दिनेश सिंह, शूरवीर शाक्य, आकांक्षा देवी एवं वृद्धा आश्रम के स्टाफ उपस्थित रहा।