मुस्लिम महिला पर्सनल लॉ बोर्ड की अध्यक्ष शाइस्ता अंबर ने महिलाओं व बच्चियों के साथ हो रही घटनाओं को लेकर चिंता व्यक्त की

लखनऊ से वरिष्ठ संवाददाता अभिनव शर्मा की रिपोर्ट

ऑल इंडिया मुस्लिम महिला पर्सनल लॉ बोर्ड की अध्यक्ष शाइस्ता अंबर ने महिलाओं के साथ हो रही घटनाओं को लेकर चिंता व्यक्त करते हुए कहा कि समाज मे अमानवीयता ,असंवेदनशीलता बलात्कार की जैसी घटनाओं हो रही है। लोगों को कानून का कोई खौफ नहीं है।
दुनिया के सभी धर्मों में मानवता की शिक्षा दी जाती है।
सभी धार्मिक ग्रंथों में बेटियों,महिलाओं को सम्मान व समान अधिकार के बारे में बताया गया है।
ज़मीनी हक़ीक़त में अभी भी समाज के कुछ लोगों की तुच्छ मानसिकता जैसे ऊंच-नीच,लिंग भेद की भावना है । लोगों को महिलाओं के प्रति अपनी भावनाओं को बदलना पड़ेगा।

देश में घृणित अमानवीय हैवानियत की सारी हदें पार करने वाली घटनाओं से पूरी दुनिया में अच्छा संदेश नहीं जा रहा है। दुख और शर्मनाक है।
हम कैसे दावा करें , हमारे देश में “बेटी बचाओ अभियान और बेटी पढ़ाओ योजना”” सफल हो रही हैं।
देश के विकास नई टेक्नोलॉजी में तरक़्की कैसे कर सकते है। जब देश में घृणित मानसिकता के लोगों रहेंगे। जिनको कानून का कोई डर नहीं है । उनके लिए देश, प्रदेश की सरकार शासन प्रशासन को सख़्त होना पड़ेगा।
तभी हमारा देश आगे बढ़ सकेगा। बेटी बचाओ- बेटी पढ़ाओ अभियान के तहत बेटियों की सुरक्षा हो सकेगी।