लखनऊ मंडलायुक्त रंजन कुमार की अध्यक्षता में मंडलीय सड़क सुरक्षा समिति को लेकर हुई बैठक

लखनऊ से मुख्य छायाकार पंकज जोशी के साथ वरिष्ठ संवाददाता अभिनव शर्मा की रिपोर्ट

लखनऊ मंडल आयुक्त रंजन कुमार की अध्यक्षता में मंडलीय सड़क सुरक्षा समिति को लेकर सभागार में मंडल के समस्त जनपदों के सड़क हादसे मे होने वाली दुर्घटनाओ को रोकने के लिए एक महत्वपूर्ण समीक्षा बैठक की गई। दुर्घटना होने के कारणो के साथ क्या सुधार संभव और दुर्घटनाओं को रोका जा सके। इस पर भी चर्चा हुई। संभागीय परिवर्तन अधिकारी (प्रवर्तन) ने बताया की मंडल में कुल 220 ब्लैक स्पॉट्स हैं। जिन पर सुधार की कार्यवाही की जा रही है। लखनऊ मंडल आयुक्त रंजन कुमार ने निर्देश देते हुए कहा कि ब्लैक स्पॉट में संबंधित विभाग द्वारा रंबल स्ट्रिप, कैट आई, रोड साइनेज आदि लगवाये जाये, सड़क के किनारे अनावश्यक रूप से वाहनों को खड़े होने से भी रोका जाये। साथ ही प्रयास किया जाए। सड़क पर चलने वाले वाहनों में रिफ्लेक्टर अवश्य लगा होना चाहिए। अधिकांश दुर्घटनाएं सड़क पर खड़े वाहनों मे रिफ्लेक्टर ना होने की वजह से होती हैं। समस्त हॉस्पिटल,थानों, टोल प्लाजा पर जनपद के मुख्य मार्गों पर बैनर पोस्टर, होल्डिंग के माध्यम से गुड सेमेरिटन का व्यापक रूप से प्रचार-प्रसार भी किया जाए। गुड सेमेरिटन से यह आशय है
कि ऐसा व्यक्ति जो कि किसी सड़क दुर्घटना में घायल किसी व्यक्ति की मद्द करेगा। उस व्यक्ति को पुलिस व हास्पिटल के द्वारा अनावश्यक परेशान नहीं किया जायेगा। उन्होंने कहा कि जिससे कोई भी व्यक्ति किसी दुर्घटनाग्रस्त व्यक्ति की मद्द करने में कोई हिचक नही दिखायेगा। मंडल के सभी जनपदों के विद्यालय मे परिवहन सुरक्षा समिति की बैठक को भी संपन्न कराया जाए। समस्त स्कूल के वाहनों के फिटनेस की जांच कराई जाए। सड़क दुघर्टना में घायलों/मृतकों के आश्रितों को सहायता धनराशि प्रदान किये जाने के सम्बन्ध में अवगत कराया गया कि मण्डल में हिट एवं रन से सम्बन्धित सोलशियम स्कीम के तहत सहायता प्रदान किये जाने के कुल 134 प्रकरण है जिनमे से 31 प्रकरण है निस्तारित किये जा चुके है। मण्डलायुक्त ने अवशेष प्रकरणों को शीघ्र निस्तारित कराने के निर्देश सम्बन्धित अधिकारियों को दिये। इस मंडलीय सड़क सुरक्षा समिति की बैठक में आरटीओ (प्रवर्तन) विदिशा सिंह, आरटीओ लखनऊ संभाग आर पी द्विवेदी, एडीसीपी (ट्रैफिक पुलिस) पूर्णेन्दु सिंह सहित सभी संबंधित विभाग के अधिकारी वा वाहन एसोसिएशन और नर्सिंग एसोसिएशन के पदाधिकारी उपस्थित रहे।