वित्त विहीन विद्यालयों के शिक्षकों ने मांगा कोरोना आपदा राहत पैकेज

जालौन से राहुल दुबे की रिपोर्ट

उरई। वित्तविहीन स्कूलों के शिक्षकों को आपदा राहत कोष से धनराशि दिलाने की मांग को लेकर बुधवार को माध्यमिक वित्तविहीन शिक्षक महासभा के बैनर तले शिक्षकों ने डीआईओएस कार्यालय में धरना दिया। इसके बाद डीआईओएस की गैरमौजूदगी में कार्यालय में ज्ञापन दिया गया।
महासभा के प्रदेश अध्यक्ष अशोक राठौर ने कहा कि कोरोना संक्रमण के चलते वित्तविहीन स्कूलों के बंद होने से छात्र और अभिभावक स्कूल में फीस जमा नहीं कर रहे हैं। इसके चलते शिक्षकों व कर्मचारियों को मार्च अप्रैल माह से ही वेतन नहीं मिल पा रहा है। लाकडाउन में भी वित्तविहीन शिक्षकों ने मूल्यांकन का काम और आनलाइन पढ़ाई का काम किया लेकिन विद्यालयों में फीस न आने और शिक्षकों के लिए कोई प्रभावी नियमावली न होने के कारण प्रबंधतंत्र इन्हें वेतन नहीं दे पा रहे है। उन्होंने मांग की कि शिक्षक हित के लिए शिक्षकों की सेवा सुरक्षायुक्त नियमावली निर्गत करते हुए इनके जीविकोपार्जन के लिए तत्काल 15 हजार रुपये मासिक आपदा राहत राशि उपलब्ध कराई जाए। इस दौरान अशोक कुशवाहा, राजेंद्र यादव, सुरेंद्र भारती, मानवेंद्र श्रीवास्तव, मनोज मिश्रा, विकास त्रिपाठी, विजय गुप्ता, दिलीप गुप्ता, संतोष गोस्वामी, मनीष पचौरी, संत सिंह यादव,सुरेशबाबू राठौर, पृथ्वीपाल अहिरवार, टीडी शाक्यवार, सुखदेव पाल, जितेंद्र आदि रहे।