सपा की मांग है कि जनगणना के आधार पर जनसंख्या का आनुपातिक हक और सम्मान मिले: अखिलेश यादव

ब्यूरो रिपोर्ट समाचार भारती-
समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव ने कहा है कि समाजवादी ही जनता का दुःखदर्द समझ सकता है। वर्तमान सरकार में जो लोग हैं वे जनता के हितों के विरूद्ध काम कर रहे हैं। समाज में तनाव के लिए भाजपाई जिम्मेदार हैं। भाजपा के लोग सबको सता रहे हैं। भाजपा सरकार में किसान, नौजवान, गरीब सभी बर्बाद हैं। मंहगाई की मार से लोग त्रस्त हैं। रोजगार नहीं है। लोकतंत्र खतरे में है इसको बचाने के लिए एकजुट होकर रहना होगा।
       श्री यादव  पार्टी मुख्यालय में डाॅ0 लोहिया सभागार में लोकबंधु श्री राजनारायण की 32वीं पुण्यतिथि पर आयोजित कार्यक्रम को सम्बोधित कर रहे थे। श्री राजनारायण की प्रतिमा पर माल्यार्पण के पश्चात् उन्होंने श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए कहा कि अन्याय के विरूद्ध राजनारायण जी आजीवन संघर्शशील रहे। उनका फक्कड़ी जीवन था। नई पीढ़ी के नेता उनसे सीखे और उनके रास्ते पर चलने का संकल्प लें।
        श्री अखिलेश यादव ने कहा कि भाजपाई जातीय नफरत फैला रहे हैं। मुख्यमंत्री जी की भाषा लोकतंत्र में मर्यादित होनी चाहिए, पर यहां तो ठोकों की भाषा बोली जा रही है। समाज का बंटवारा होगा तो खुशहाली नहीं आएगीं। भाजपा की आर्थिक नीतियों ने भारत के बाजार को बर्बाद कर दिया हैं। स्वदेशी की बात करने वालों के समय भारत में चीन के सामान से बाजार पट गए हैं। भाजपा वैचारिक प्रदूषण फैलाने में लगी है। प्रचार माध्यमों पर कब्जा हो गया हैं। भाजपा की इन साजिशों से अतः सावधान रहना है और वैश्वीकरण के दौर में भारत को बचाना है।
        श्री यादव ने कहा कि समाजवादी जातिवादी नहीं हो सकते हैं। वे सबको साथ लेकर चलते हैं। समाजवादी पार्टी की मांग है कि जनगणना के आधार पर जनसंख्या का आनुपातिक हक और सम्मान मिलना चाहिए। इससे एक दूसरे के प्रति घृणा नहीं होगा। सबका भला होगा। भाजपा कारोबारियों की दुश्मन पार्टी है। वह किसान को भी मजदूर बनाना चाहती है। बेरोजगारों की भीड़ तैयार कर रही है भाजपा।
          श्री अखिलेश यादव ने कहा भाजपा ने नमामि गंगे नारे से जनता को धोखा दिया। गंगा निर्मल नहीं हुई। समाजवादी सरकार में गोमती की सफाई हुई। भाजपा ने रिवरफ्रंट को बांटकर 9 नए नाम दे डाले अच्छा होता वे 10वां जुमला पार्क भी बना डालते। भाजपा ने किया कुछ नहीं बस समाजवादी सरकार के कामों पर अपनी मुहर लगाई है।
          श्री यादव ने कहा कि विकास का बुनियादी ढांचा बनना चाहिए। समाजवादी सरकार ने लखनऊ में मेट्रो चला दी। कानपुर में चलने को थी भाजपा सरकार ने इसे रोक दिया। झांसी-गोरखपुर में मेट्रो अब चलने वाली नहीं है। समाजवादी सरकार में इकाना जैसे 10 स्तरीय स्टेडियम बनाए जाएंगे। उन्होंने कहा कि आगरा-लखनऊ एक्सप्रेस-वे सड़क बन गई। अब लखनऊ से गाजीपुर जोड़ने वाली सड़क से बलिया को काट दिया गया है। एक्सप्रेस-वे के किनारे मंडिया बनती। उससे किसान को लाभ मिलता। धान-आलू का क्रय नहीं हुआ। क्रय केन्द्र नहीं खुले। गन्ना किसानों भुगतान नहीं हुआ और न ही इस सत्र में गन्नें का भाव बढ़ा है।
          श्री अखिलेश यादव ने कहा कि हमने डाॅ0 लोहिया -जयप्रकाश जी और नेताजी के रास्ते पर चलने का संकल्प लिया है। हमें एकजुट होकर रहना होगा। भाजपा से सब नाराज है। जनता इसको सन् 2019 में सबक सिखाएगी।
          इस अवसर पर सर्वश्री राजेन्द्र चौधरी  पूर्व मंत्री, रामगोपाल पुरी प्रदेश अध्यक्ष मजदूर सभा, विनोद सिंह उर्फ पंडित सिंह पूर्व मंत्री, एसआरएस यादव, अरविन्द कुमार सिंह, सभी एमएलसी, फाकिर सिद्दीकी नगर अध्यक्ष, नवीन धवन पार्षद तथा मुकेश षुक्ला, तारा चन्द, सुरेन्द्र त्यागी, डाॅ0 फिदा हुसेन अंसारी, के.के. श्रीवास्तव, डाॅ0 मगरूब कुरैशी, शफीकुर्रहमान, अशोक पटेल, महेंद्र सिंह आदि की उपस्थिति उल्लेखनीय रही।