मध्यप्रदेश में जंगलराज: हत्या के बाद अब अपहरण की वारदात से दहला प्रदेश

भोपाल. 3 दिन के अंदर मध्यप्रदेश में तीन घटनाएं घटीं। पहली घटना इंदौर की। यहां एक 6 वर्षीय बालक का अपहरण हुआ। दूसरी घटना झाबुआ जिले की जहां एक 19 वर्षीय युवक का अपहरण किया गया और तीसरी घटना है सतना जिले के चित्रकूट की। यहां दो सगे भाईयों का बंदूक की नोक पर दिन दहाड़े अपहरण किया गया। इन घटनाओं के बाद प्रदेशवासियों में डर और खौफ का माहौल है तो परिजनों में गुस्सा।

मध्यप्रदेश में कमलनाथ की सरकार बने दो महीने का समय हो गया है। मुख्यमंत्री कमलनाथ ने इस दौरान अगर किसी बात पर सबसे ज्यादा जोर दिया तो उन्होंने कहा- व्यवस्था परिवर्तन की जरूरत है। मध्यप्रदेश में कांग्रेस की सरकार बनने के बाद अपराध की घटनाएं बढ़ गई हैं। प्रदेश में लगातार हो रही अपहरण की घटनाओं ने प्रदेश को हिला के रख दिया है। तो इससे पहले मर्डर की भी कई घटनाएं सामने आ चुकी है।

चित्रकूट में दिनदहाड़े घटना
चित्रकूट के नयागांव थाना इलाके में मंगलवार की दोपहर एक निजी स्कूल परिसर से दिनदहाड़े छह वर्षीय दो भाईयों को बदमाशों ने बंदूक की नोक पर अपहरण कर लिया। पुलिस अधीक्षक संतोष सिंह गौर ने बताया, ‘‘नयागांव के एक स्कूल परिसर में तेल कारोबारी ब्रजेश रावत के एक केजी और यूकेजी में पढ़ने वाले जुडवां बेटे देवांश और शिवांस स्कूल की छुट्टी के बाद घर जाने के लिये स्कूल बस में बैठ रहे थे। तभी बाइक से आये दो बदमाशों ने तमंचे के बल पर दोनों बच्चों का अपहरण कर लिया और जंगल की ओर फरार हो गये। फिलहाल बदमाशों का कोई सुराग नहीं मिला है, पुलिस घटनास्थल के आसपास के सीसीटीवी कैमरों में बदमाशों के फोटो देखकर उनका पता लगाने में जुट गयी है। नयागांव थाना प्रभारी के पी त्रिपाठी ने बताया, ‘‘स्कूल की तीन नंबर बस से अपहरण हुआ है। मामला रंजिश में अपहरण का लग रहा है।

झाबुआ में मांगी गई 20 लाख की फिरौती
प्रदेश के झाबुआ जिले में एक 19 साल के लड़के के अपहरण का मामला सामने आया। बदमाशों ने इसके लिए 20 लाख की फिरौती मांगी। लड़के के पिता ने चार दिन पहले पुलिस में शिकायत दर्ज कराई है कि अपहरण के बाद उनसे 20 लाख रूपए की फिरौती मांगी गई है। अपहरण किए गए युवक का नाम नरेश है। 4 दिन बीतने के बाद भी पुलिस अभी भी खाली हाथ हैं।

इंदौर में पुलिस को मिली सफलता
रविवार 10 फरवरी को इंदौर के प्राइम सिटी कॉलोनी से एक बच्चे का अपहरण हुआ। आरोपियों ने बच्चे के पिता को कॉल कर 10 लाख रुपए की फिरोती मांगी थी। पुलिस ने आरोपियों के नंबर ट्रेस किए तो वह उत्तरप्रदेश के निकले। पुलिस ने मप्र और उत्तरप्रदेश की सीमा पर नाकाबंदी कर दी। पुलिस की नाकाबंदी से घबराकर सोमवार शाम बदमाश अक्षत को इंदौर से करीब 400 किमी दूर सागर जिले के बरोदिया गांव के नाके पर छोड़ भाग गए।

शिवराज ने साधा निशाना
शिवराज सिंह चौहान ने सरकार पर निशाना साधते हुए कहा- मुझे याद है, जब मैं पहली बार मुख्यमंत्री बना था तब मैंने कहा था मध्यप्रदेशमें या तो शिवराज रहेगा या तो फिर डाकू।