MP में भी किसान आंदोलनः बुंदेलखंड में लगातार 30 दिन से जारी है किसानों का धरना, प्रशासन बेखबर

छतरपुर। देश की राजधानी दिल्ली के पास सिंघु बॉर्डर के पर चल रहे किसानों के आंदोलन के समर्थन में मध्य प्रदेश के बुंदेलखंड के किसान भी शामिल हैं। छतरपुर जिला मुख्यालय से करीब 55 किलोमीटर दूर एक गांव में किसान पिछले 8 सितंबर से धरना दे रहे हैं। सिंघु बॉर्डर पर जमा किसानों की तरह बुंदेलखंड के किसान भी केंद्र सरकार द्वारा लाए गए कृषि कानूनों को वापस लेने की मांग कर रहे हैं। हालांकि, 30 दिन गुजरने के बाद भी किसी अधिकारी ने अब तक उनकी सुध नहीं ली है।

इस कड़कड़ाती ठंड में किसान तंबू के अंदर ही सो रहे है। उनके खाने से लेकर सोने तक की तमाम व्यवस्थाएं इसी तंबू में हैं। शुरुआत में यहां किसानों की संख्या कम थी, लेकिन धीरे धीरे उनकी तादाद बढ़ रही है। अब यहां कई ऐसे किसान भी आ रहे हैं जो सिंघु बॉर्डर से लौटकर आए हैं।

30 दिन से लगातार धरना पर बैठे किसानों को जिला प्रशासन से इस बात की नाराजगी है कि अब तक किसी भी अधिकारी ने उनसे संपर्क नहीं किया। किसी ने यह जानने की कोशिश नहीं की कि किसान आखिर क्या चाहते हैं। इन किसानों के लिए न तो कोई चिकित्सा टीम है और न ही पुलिस ने सुरक्षा को लेकर कोई इंतज़ाम किए हैं।