ANSYS, स्वदेशी ऑक्सीजन कंसंट्रेटर और प्लांट्सत्र स्थापित करने के लिए आई आई टी कानपुर के एसआईआईसी के मिशन भारत O2 पहल का समर्थन करने के लिए आगे आया

ANSYS, स्वदेशी ऑक्सीजन कंसंट्रेटर और प्लांट्सत्र स्थापित करने के लिए आई आई टी कानपुर के एसआईआईसी के मिशन भारत O2 पहल का समर्थन करने के लिए आगे आया

ब्यूरो चीफ़ आरिफ़ मोहम्मद कानपुर

• *मिशन भारत O2 के लिए Ansys के सीएसआर प्रयासों के तहत धन प्राप्त हुआ है।*
• *मिशन भारत O2 टास्क फोर्स को पूरे भारत में ऑक्सीजन कंसंट्रेटर के तेजी से बड़े पैमाने पर, विकेन्द्रीकृत उत्पादन की सुविधा के लिए सक्षम बनाना।*

कानपुर, यूपी- स्टार्ट-अप इनक्यूबेशन एंड इनोवेशन सेंटर (SIIC), IIT कानपुर ने मिशन भारत O2 के तहत इंजीनियरिंग सिमुलेशन सॉफ्टवेयर के वैश्विक लीडर और अन्वेषक, Ansys से बड़े पैमाने पर ऑक्सीजन कंसंट्रेटर के निर्माण का समर्थन करने के लिए धन जुटाया है। वैश्विक मानकों के अनुरूप स्वदेशी विनिर्माण को बढ़ावा देने के लिए यह सहयोग एक महत्वपूर्ण समय पर प्राप्त किया है। मिशन भारत O2 भारत में एक आत्मनिर्भर स्वास्थ्य प्रणाली को पोषित करने के लिए एसआईआईसी के व्यापक दृष्टिकोण की दिशा में एक कदम है। Ansys ने पूरे भारत में विकास की पहल में योगदान देने की विरासत को पोषित किया है। उनके सीएसआर प्रयास राष्ट्र निर्माण के प्रति गहरी प्रतिबद्धता दर्शाते हैं।
हाल के दिनों में, Ansys ने AIPL, एक एसआईआईसी इनक्यूबेटी, के साथ ऑक्सीजन प्लान्ट की डिजाइन योग्यता में भी सहयोग किया है। Ansys कम्प्यूटेशनल फ्लुइड डायनेमिक्स और स्ट्रक्चरल मैकेनिक्स में अपनी विशेषज्ञता का लाभ उठाकर महत्वपूर्ण डिज़ाइन अंतर्दृष्टि प्रदान करने में सक्षम था।

एसआईआईसी के लोकल फॉर वोकल विज़न पर टिप्पणी करते हुए, *एसआईआईसी के सीईओ डॉ० निखिल अग्रवाल ने कहा कि*, “आईआईटी कानपुर में एसआईआईसी टीम का लक्ष्य अत्याधुनिक अनुसंधान और विकास से उत्पन्न उत्पाद नवाचार का समर्थन करके देश को एक विनिर्माण केंद्र में बदलना है। भारत में कोविड-19 के आने के बाद से हमारी इनक्यूबेटेड कंपनियों ने काफी योगदान दिया है। इस अनुभव के साथ, हम स्थानीय निर्माताओं का एक गठजोड़ बनाने के लिए एक कदम और आगे बढ़ना चाहते हैं जो भारत को वैश्विक विनिर्माण केंद्रों के मानचित्र पर लाएंगे। Ansys का समर्थन उस दिशा में एक बहुत ही आवश्यक योगदान है।”

इस पहल के बारे में बोलते हुए, *श्री रफीक सोमानी, एरिया वाइस प्रेसिडेंट – इंडिया एंड साउथ एशिया पैसिफिक, Ansys*, ने कहा, एसआईआईसी, आई आई टी कानपुर के तत्वावधान में मिशन भारत O2 ऑक्सीजन कंसंट्रेटर और प्लांट्स के स्वदेशीकरण की दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम है जो यहां COVID-19 से लड़ने में एक लंबा रास्ता तय करेगा। हम Ansys में ‘मेक इन इंडिया’ पहल के लिए प्रतिबद्ध हैं और इसके लिए सफल विनिर्माण महत्वपूर्ण है और स्वास्थ्य सेवा कोई अपवाद नहीं है। सिमुलेशन संचालित उत्पाद विकास वह बढ़त है जो आवश्यक नवाचार, बेहतर गुणवत्ता और कम जोखिम प्रदान करेगी। हम आईआईटी कानपुर टीम के साथ साझेदारी करके खुश हैं और मिशन भारत O2 टास्क फोर्स को देश भर में ऑक्सीजन सांद्रता के इस विकेन्द्रीकृत और तेजी से पैमाने पर उत्पादन की सुविधा प्रदान करने में मदद करते हैं।

प्रो० अमिताभ बंद्योपाध्याय, प्रोफेसर-इन्चार्ज, इनोवेशन एंड इनक्यूबेशन, IIT कानपुर, श्रीकांत शास्त्री, निदेशक, फाउंडेशन फॉर इनोवेशन एंड रिसर्च इन साइंस एंड टेक्नोलॉजी (FIRST IITK) और अध्यक्ष, I3G सलाहकार नेटवर्क और राहुल पटेल, रणनीतिक पहल के प्रमुख एसआईआईसी, आई आई टी कानपुर के नेतृत्व में मिशन भारत O2 परियोजना, ऑक्सीजन प्लांट्स और कंसंट्रेटर विकसित करने के लिए स्थानीय निर्माताओं का समर्थन करेंगे। यह पहल स्वदेशी विनिर्माण क्षमताओं और गुणवत्तापूर्ण स्वास्थ्य बुनियादी ढांचे के वितरण नेटवर्क को उत्पन्न करने के लिए एक विकेन्द्रीकृत मॉडल पर काम करेगी। मिशन भारत O2 के माध्यम से एसआईआईसी का लक्ष्य विकेंद्रीकृत विनिर्माण क्षेत्र बनाना है जहां भारतीय निर्माता तेजी से ऑक्सीजन कंसंट्रेटर और प्लांट्स विकसित करेंगे।

एसआईआईसी ने 70+ प्रतिभागियों में से आठ विनिर्माण भागीदारों का भी चयन किया है, जिन्होंने मिशन भारत O2 के तहत स्वदेशी ऑक्सीजन प्लान्ट और ऑक्सीजन कंसंट्रेटर के निर्माण के लिए प्रतिस्पर्धा की थी। इस पहल के साथ, एसआईआईसी, आई आई टी कानपुर ने आयात पर निर्भरता कम करके भारतीय स्वास्थ्य सेवा निर्माण पारिस्थितिकी तंत्र को आत्मनिर्भर बनाने के लिए एक कदम आगे बढ़ाया है। एक प्रतिष्ठित फंडिंग पार्टनर के रूप में, Ansys का उदार समर्थन मिशन भारत O2 के कुशल निष्पादन की दिशा में SIIC के प्रयासों को आगे बढ़ाएगा।

* Ansys के बारे में अधिक जानकारी के लिए वेबसाइट* https://www.ansys.com/en-in

 

*स्टार्टअप इनक्यूबेशन एंड इनोवेशन सेंटर (SIIC), आई आई टी कानपुर के बारे में*

स्टार्टअप और सामाजिक उद्यमों को व्यापक रूप से विकासात्मक चुनौतियों को संबोधित करने की कुंजी के रूप में माना जाता है, खासकर भारत जैसी उभरती अर्थव्यवस्थाओं में। इनक्यूबेट स्टार्टअप्स में अग्रणी होने के साथ, स्टार्टअप इनक्यूबेशन एंड इनोवेशन सेंटर (SIIC) आई आई टी कानपुर का उद्देश्य पिरामिड के तल पर प्रभाव पैदा करना है। वर्ष 2000 में स्थापित, स्टार्टअप इनक्यूबेशन एंड इनोवेशन सेंटर (SIIC) आई आई टी कानपुर अपनी पहल के तहत कई सफलताओं के साथ सबसे पुराने प्रौद्योगिकी व्यवसाय इन्क्यूबेटरों में से एक है, 2 दशकों की अवधि में पोषित इस बहुविध जीवंत ऊष्मायन पारिस्थितिकी तंत्र का उद्देश्य एक विचार को व्यवसाय में परिवर्तित करने की यात्रा में आने वाले सभी अवरोधों को दूर है। स्टार्टअप इनक्यूबेशन एंड इनोवेशन सेंटर (SIIC), ने कृषि, स्वास्थ्य सेवा, एयरोस्पेस, ऊर्जा, जल और शिक्षा जैसे क्षेत्रों में प्रतिमानों को बाधित करने वाले प्रारंभिक चरण, प्रौद्योगिकी-केंद्रित स्टार्ट-अप के विकास में प्रमुख घटक बन गए अनुभव आधार और पारिस्थितिकी तंत्र का विकास किया है।

वेबसाइट-
1. https://siicincubator.com/
2. https://www.bharato2.in/