केंद्रीय मंत्री ने कहा- ‘करकरे के पास प्रज्ञा के खिलाफ थे पर्याप्त सबूत’

राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (NDA) के सहयोगी दल रिपब्लिकन पार्टी ऑफ इंडिया के अध्यक्ष रामदास अठावले ने प्रज्ञा ठाकुर की उम्मीदवारी पर सवाल उठाए है. अंग्रेजी अखबार द इंडियन एक्सप्रेस के अनुसार रविवार को अठावले ने कहा कि ‘उनका (प्रज्ञा) नाम मालेगांव ब्लास्ट केस में था औ हेमंत करकरे (पूर्व एटीएस चीफ) के पास पर्याप्त सबूत थे.’

अठावले ने कहा – ‘आतंकियों से लोगों को बचाते हुए करकरे शहीद हुए. करकरे पर साध्वी के बयान से मैं सहमत नहीं हूं. मैं इसकी निंदा करता हूं. यह अदालत पर निर्भर करता है कि क्या सही है और क्या गलत है.’

प्रज्ञा ने पहले कहा था कि करकरे 26/11 के मुंबई आतंकवादी हमले में मारे गए थे क्योंकि उन्होंने 2008 के मालेगांव विस्फोट मामले की जांच के दौरान उन्हें ‘प्रताड़ित’ करने के लिए ‘श्राप’ दिया था. प्रज्ञा मालेगांव विस्फोट मामले में आरोपी है और फिलहाल जमानत पर बाहर हैं.

अठावले ने कहा, ‘अगर हमारी पार्टी को फैसला करना होता तो हम उन्हें मैदान में नहीं उतारते.’ आगामी लोकसभा चुनावों के बारे में बोलते हुए, केंद्र में सामाजिक न्याय और अधिकारिता राज्य मंत्री, अठावले ने कहा कि एनडीए 350 सीटें जीतेगी.

अठावले ने कहा,  उन्हें उम्मीद है कि जीत के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी उन्हें एक अच्छा मंत्री पद देंगे. यह पूछे जाने पर कि रक्षा मंत्री बनाए जाने पर उनका रुख पाकिस्तान पर क्या होगा, अठावले ने कहा कि अगर वह भारत के खिलाफ आतंकी हमले करते हैं तो पड़ोसी देश पर हमला करेंगे.