सीपीआईएम नेता सुभाषिनी अली ने योगी सरकार की कार्यप्रणाली पर उठाए सवाल

Spread the love

लखनऊ से वरिष्ठ संवाददाता अभिनव शर्मा की रिपोर्ट:

कम्युनिस्ट पार्टी (मार्क्सवादी) की नेता सुभाषिनी अली सहगल ने योगी सरकार पर आरोप लगाते हुए बताया कि सरकार संवैधानिक व लोकतांत्रिक अधिकारों का हनन के साथ विरोधियों की आवाज को कुचलने व प्रताड़ित करने का कार्य कर रही है। पूरे प्रदेश में जंगलराज जैसा माहौल कायम हो गया है। बदायूं की घटना मंदिर के पुजारी के साथियों ने महिला के साथ बलात्कार कर निर्मम तरीके से हत्या कर दी। एक तरफ सरकार मिशन शक्ति अभियान के अंतर्गत महिलाओं को सुरक्षा व सम्मान देने की बात कर रही है। लेकिन महिलाओं के साथ बलात्कार की घटना कम नहीं हो रही है। दलितों के उत्पीड़न की घटनाएं भी प्रदेश में बढ़ती जा रही हैं। गाजियाबाद के मुरादनगर में शमशान की छत गिरने से कई लोगों की मृत्यु की घटना से सरकार के भ्रष्टाचार को भी उजागर करके रख दिया है। गन्ना किसानों के गन्ने का अभी तक मूल्य घोषित नहीं किया। जोकि हजारों करोड़ रुपए अभी बकाया है। सरकार किसान आंदोलन का समर्थन करने वाले राजनीतिक दल व लोगों के खिलाफ फर्जी मुकदमे, नजरबंद व शांति भंग, गुंडा एक्ट जैसे मुकदमे की कार्रवाई कर रही हैं। सरकार ने गांव में किसान नेताओं की जासूसी करने के लिए अधिकारियों को लगा दिया है। जिस तरह से योगी सरकार संविधान को ना मानते, अपनी मनमानी कर रही है। उससे न तो लोकतंत्र व जनता की रक्षा नहीं हो सकती है।
सीपीआईएम नेता उत्तर प्रदेश में जिस तरह से संविधान और लोकतंत्र की धज्जियां उड़ाई जा रही हैं। उसके खिलाफ सभी दलों को एकजुट कर आवाज उठाएंगे। इस मौके पर सीपीआई राज्य सचिव डॉ हीरालाल यादव उपस्थित रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *