भोपाल में नहीं हो पाया किसानों का प्रदर्शन, नेताओं को गिरफ्तार कर बाद में मुचलके पर छोड़ा

भोपाल। राजधानी भोपाल (bhopal) में आज किसानों का प्रदर्शन (farmers demonstration) नहीं हो पाया. पुलिस ने परमिशन न होने का हवाला देकर किसानों को प्रदर्शन नहीं करने दिया. पुलिस ने किसान नेताओं को गिरफ्तार किया और प्रदर्शन स्थल को छावनी में तब्दील कर दिया.

कृषि बिल के खिलाफ भारतीय किसान यूनियन के अध्यक्ष अनिल यादव ने अपने सहयोगी किसान संगठनों के जरिए भोपाल के नीलम पार्क में अनिश्चितकालीन धरना का ऐलान किया था. लेकिन उन्हें जिला प्रशासन ने परमिशन नहीं दी.इसलिए पुलिस ने कल रात से ही अनिल यादव सहित उनके सहयोगी किसान नेताओं को गिरफ्तार कर लिया और नीलम पार्क में भारी पुलिस बल तैनात कर दिया. इसके अलावा शहर की सीमाओं को सील कर दिया. ताकि किसान राजधानी भोपाल में एंटर न हो सके.

गिरफ्तारी के बाद मुचलके पर छोड़ा

भोपाल डीआईजी के इरशाद वली ने बताया कि इतने लोगों के इकट्टा होने से कोरोना संक्रमण फैल सकता है. सामान्य यातायात व्यवस्था छिन्न-भिन्न हो जाती. आम नागरिकों को काफी परेशानी होती.इससे किसी अप्रिय घटना और शांति व्यवस्था भंग होने की आशंका थी. उन्होंने बताया कि किसान संगठनों को हिदायत दी गयी थी कि वो बिना इजाज़त प्रदर्शन न करें. लेकिन उसके बाद भी वो नहीं माने.इसलि अनिल यादव, राहुल राय, नरेन्द्र सिंघोरिया, विजय कुमार, बाबू सिंह,  इरफान जाफरी को धारा 151 के तहत गिरफ्तार कर लिया गया. बाद में इन्हें कार्यपालक दण्डाधिकारी के समक्ष पेश किया गया. वहां से सभी को जमानत मुचलके पर रिहा कर दिया गया.