सांसद के खिलाफ देवबंद का फतवा, साध्वी बोलीं- वो मंगलसूत्र पहने तो हराम, हिंदू लड़की बुर्के में रहे वो जायज?

Spread the love

नई दिल्ली। तृणमूल कांग्रेस के टिकट पर पश्चिम बंगाल के बशीरहाट लोकसभा सीट से चुनकर संसद पहुंची सांसद नुसरत जहां के खिलाफ देवबंद के मौलवी ने फतवा जारी किया है। दरअसल नुसरत ने हाल ही में कोलकाता के बिजनसमैन निखिल जैन से शादी की है। शादी के बाद जब वह संसद पहुंची तो उन्होंने मंगलसूत्र पहनने के अलावा मांग में सिंदूर लगाया था। पिंक साड़ी और हाथों में चूड़ियां पहनीं नुसरत ने शादी के बाद संसद पहुंचकर सांसद के रूप में शपथ ली। यहीं बात मुस्लिम धर्मगुरुओं को नागवार लगी और फतवा जारी कर दिया।

मुस्लिम धर्मगुरु मुफ्ती असद वासमी ने नुसरत के हिंदू रिति रिवाज से हुई शादी पर बयान देते हुए कहा, ‘तहकीकात से दौरान पता चला कि उन्होंने जैन से शादी की है। इस्लाम का नुक्तानज़र और इस्लाम यह कहता है कि एक मुसलमान सिर्फ मुसलमान से शादी कर सकता है किसी गैर से नहीं। दूसरी बात ये है कि नुसरत जहां एक फिल्मी एक्टर हैं। ये जो एक्टर होते हैं उनके लिए दीन और धर्म कोई हैसियत नहीं रखता। जो उनको अच्छा लगता है वो करती हैं। इसी का असर संसद में देखने को मिला जब वो सिंदूर लगाकर और मंगलसूत्र पहनकर पहुंची। इस पर बात करना ही बेकार है क्योंकि अपनी जिंदगी का फैसला है हम इस पर कुछ नहीं कर सकते।’

वहीं भाजपा नेता साध्वी प्राची ने नुसरत जहां का समर्थन करते हुए कहा, ‘मुस्लिम महिला हिंदू से शादी कर ले और हिंदू से शादी करके बिंदी लगाए, बिछुए पहने और मंगलसूत्र पहने तो मुस्लिम मौलवी उसे हराम करार देते हैं। मुझे अफसोस होता है और उनकी बुद्धि पर तरह आता है लेकिन लाखों मुस्लिम हिंदू बेटियों को फंसाकर लव जिहाद में फंसाते हैं और उन्हें बुरका पहनाते हैं तो वह हराम नहीं है? इनके वहां वो जायज हैं।’

दूसरे मुस्लिम धर्मगुरु ने साध्वी को कहा बेलगाम औरत
साध्वी के इस बयान पर एक दूसरे मुस्लिम धर्मगुरु मौलान करी ने तीखी प्रतिक्रिया देते हुए कहा, ‘साध्वी प्राची को जानकारी नहीं है और ऐसी औरतें बेलगाम हैं जो देश में आग लगाने की कोशिश करती हैं और  सुर्खियों में बने रहने के लिए वह इस तरह के बयान देते रहती हैं। ऐसी औरतें देश को बांटना चाहती हैं। उन्हें इस्लाम के बारे में कुछ पता नहीं है। ऐसी औरतों को इस्लाम के बारे में पढ़ना चाहिए। इस्लाम अमन का पैगाम देता है।’

एक्टर के लिए धर्म मायने नहीं रखता- असद वासमी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *