कर्नाटक : कांग्रेस-जेडीएस के 11 विधायकों का इस्तीफा, गौड़ा ने कहा- भाजपा सरकार बनी तो येदियुरप्पा सीएम होंगे

Spread the love

बेंगलुरु। कर्नाटक में 13 महीने पुरानीकांग्रेस-जेडीएस की गठबंधन सरकार पर खतरा मंडराने लगा है। कांग्रेस और जेडीएस के 11 विधायकों ने शनिवार को स्पीकर रमेश कुमार के दफ्तर पहुंचकर इस्तीफा सौंप दिया।स्पीकर अपने दफ्तर में नहीं थे, लेकिन उन्होंने बाद में 11 विधायकों के इस्तीफे मिलने की पुष्टि की। अगर स्पीकर रमेश कुमार विधायकों केइस्तीफे स्वीकार करते हैं, तो कुमारस्वामीसरकार अल्पमत में आ जाएगी। कर्नाटक के मुख्यमंत्री कुमारस्वामी अमेरिका और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष दिनेश गुंडु राव ब्रिटेन गए हैं। दोनों रविवार को बेंगलुरु लौटेंगे।

भाजपा के राज्य में सरकार बनाने के सवाल पर केंद्रीय मंत्री सदानंद गौड़ा ने कहा कि राज्यपाल फैसला लेने का सर्वोच्च अधिकार रखते हैं। संवैधानिक मत के तहत अगर वे हमें बुलाते हैं, तो हम सरकार बनाने के लिए बिल्कुल तैयार हैं। हम सबसे बड़ी पार्टी हैं। हमारे साथ 105 विधायक हैं। अगर भाजपा की सरकार बनती है तो येदियुरप्पा मुख्यमंत्री होंगे।

इस्तीफा सौंपने के बाद राज्यपाल से मुलाकात करने पहुंचे विधायक

उमेश कामतल्ली, बीसी पाटिल, रमेश जारकिहोली, शिवाराम हेब्बर, एच विश्वनाथ, गोपालैया, बी बस्वराज, नारायण गौड़ा, मुनिरत्ना, एसटी सोमाशेखरा, प्रताप गौड़ा पाटिल इस्तीफा सौंपने के बाद राज्यपाल से मिलनेराजभवन पहुंचे।

जेडीएस विधायक एच विश्वनाथ ने कहा, ”अब तक 14 विधायक सरकार से इस्तीफा दे चुके हैं। हम राज्यपाल से भी मिले हैं। हमने स्पीकर को इस्तीफा स्वीकार करने को लिखा है। उन्होंने इस पर मंगलवार तक फैसला लेने के लिए कहा है। गठबंधन सरकार कर्नाटक के लोगों की उम्मीदों पर खरी नहीं उतरी।”

विधानसभा में तय होगा, सरकार गिरगी या नहीं- स्पीकर

न्यूज एजेंसी के मुताबिक, स्पीकर रमेश कुमार विधायकों के पहुंचने से पहले ही विधानसभा से बाहर निकल गए। इस पर रमेश कुमार ने कहाकि मुझे अपनी बेटी को लेना था, इसलिए घर चला गया। मैंने अपने ऑफिस में बोल दिया था कि विधायकों का इस्तीफा रख लें और मुझे बता दें। 11 सदस्यों ने इस्तीफा सौंपाहै। कल (रविवार) को छुट्टी है, सोमवार को पूर्व निर्धारित कार्यक्रम हैं। इसलिए मंगलवार को ही मामला देख पाऊंगा। सरकार गिरेगी या नहीं इसका फैसला विधानसभा में ही होगा।

कर्नाटक में दिन भर चला नाटक
दोपहर 1.41 बजे: जेडीेस-कांग्रेस के 11 विधायक इस्तीफा सौंपने के लिए स्पीकर के दफ्तर पहुंचे। यहां स्पीकर नहीं मिले तो अधिकारियों को इस्तीफा दिया।
2.10 बजे: घटनाक्रम की जानकारी मिलने पर मंत्री डीके शिवकुमार विधानसभा पहुंचे और कुछ देर बाद रामलिंगा रेड्डी समेत तीन विधायकों को साथ लेकर निकले।
2.24 बजे: विधायक बीसी पाटिल, रमेश जरकिहोली और एच विश्वनाथ समेत कांग्रेस-जेडीएस के 6 विधायक राजभवन पहुंच गए।
3.26 बजे: कांग्रेस के कर्नाटक प्रभारी केसी वेणुगोपाल बेंगलुरु के लिए रवाना हुए।
3.36 बजे: कांग्रेस नेता डीके शिवकुमार पार्टी के बागी विधायक रामलिंगा रेड्डी, एसटी सोमशेखर और बी बस्वराज को अपने आवास पर ले गए।
3.44 बजे: भाजपा नेता येदियुरप्पा ने कहा- शिवकुमार ने स्पीकर के ऑफिस में कुछ विधायकों के इस्तीफे फाड़ दिए। यह निंदनीय है।
3.58 बजे: इस्तीफा सौंपने वाले सभी 11 विधायक राजभवन पहुंचे। तीन कांग्रेस कांग्रेस विधायकों ने कहा- सिद्धारमैया को मुख्यमंत्री बनाया जाए।

कर्नाटक विधानसभा की मौजूदा स्थिति

पार्टी सीट
भाजपा 105
कांग्रेस 78
जेडीएस 37
बसपा 1
केपीजेपी 1
निर्दलीय 1

*कांग्रेस के टिकट से जीते रमेश कुमार मौजूदा विधानसभा अध्यक्ष हैं।

11 विधायकों के इस्तीफे के बाद क्या होगी स्थिति?

अगर स्पीकर 11 विधायकों के इस्तीफे को स्वीकार कर लेते हैंतो विधानसभा में कुल 210 सदस्य रह जाएंगे। विधानसभा अध्यक्ष को छोड़कर ये संख्या 209 रह जाएगी। ऐसे में बहुमत के लिए 105 विधायकों की जरूरत होगी।

निर्दलियों के समर्थन से बन सकती है भाजपा सरकार

ऐसी अटकलें हैं कि दो निर्दलीय विधायक कुमारस्वामी सरकार की कैबिनेट से मंत्री का पद छोड़ सकते हैं। ये दोनों विधायक भाजपा को समर्थन दे सकते हैं। अगर ऐसा होता है तो भाजपा के पास 107 विधायकों का समर्थन होगा। जो सरकार बनाने के लिए काफी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *