मोदी का सत्ता में लौटना, देश की संवैधानिक संस्थाओं की ‘मौत की दस्तक’ होगी: येचुरी

Spread the love

CPI(M) के महासचिव सीताराम येचुरी ने कहा कि नरेंद्र मोदी का दोबारा सत्ता में लौटना भारत में सभी संवैधानिक संस्थाओं की समाप्ति की दस्तक होगी. येचुरी शनिवार को उत्तरी क्षेत्र ‘केरल समरक्षना यात्रा’ शुरू करने के अवसर पर बोल रहे थे.

समाचार भारती ब्यूरो रिपोर्ट के अनुसार इस यात्रा का नेतृत्व सीपीआई के राज्य सचिव कानम राजेंद्रन करेंगे और केंद्र सरकार की विफलताओं को उजागर करना है. येचुरी ने साफ शब्दों में कहा, नरेंद्र मोदी की सत्ता में वापसी भारत की सभी संवैधानिक संस्थाओं की मौत की दस्तक होगी. अब तक उनके खिलाफ एक हमला शुरू किया गया है. इसके परिणामस्वरूप समाज में अमीर और गरीब के बीच व्यापक अंतर पैदा होगा.

पुलवामा हमला जिसमें सीआरपीएफ के 40 जवान मारे गए, उसपर येचुरी ने कहा कि इसे राजनीतिक लाभ के लिए सांप्रदायिक नहीं बनाया जाना चाहिए.

सबरीमाला मुद्दे का लोकसभा चुनाव पर कोई असर नहीं होने वाला है

उन्होंने कहा- कश्मीर हमले को आतंकवादी हमले के रूप में देखा जाना चाहिए. हमले को आतंकवादी के धर्म को देखते हुए सांप्रदायिकता से नहीं जोड़ा जाना चाहिए और इसका इस्तेमाल राजनीतिक लाभ के लिए करना बिल्कुल गलत है. देश को आतंकवाद के खिलाफ एक साथ खड़ा होना चाहिए. येचुरी ने यह भी कहा कि सबरीमाला मुद्दे का आगामी लोकसभा चुनाव पर कोई असर नहीं होने वाला है. उन्होंने कहा कि पश्चिम बंगाल में तृणमूल कांग्रेस और बीजेपी दोनों ही कम्युनिस्ट पार्टी के राजनीतिक प्रतिद्वंद्वी हैं.

एलडीएफ ने राज्य में दो क्षेत्रीय यात्राएं आयोजित की हैं

येचुरी ने हजारों वाम डेमोक्रेटिक फ्रंट (एलडीएफ) कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए कहा- बंगाल में सीपीआई (एम) की विशाल रैली वहां हमारा दबदबा दिखाती है लेकिन तृणमूल लोगों को वहां वोट नहीं डालने दे रही है. हमने कांग्रेस पार्टी के साथ कोई समझौता नहीं किया है लेकिन इसका उद्देश्य नरेंद्र मोदी सरकार को बाहर करना है. हम इसके अनुरूप निर्णय लेंगे. बीजेपी उम्मीदवारों को हराना हमारा मुख्य उद्देश्य है.

बता दें कि लोकसभा चुनावों से पहले, एलडीएफ ने राज्य में दो क्षेत्रीय यात्राएं आयोजित की हैं. सीपीएम के राज्य सचिव कोडिएरी बालाकृष्णन ने बीते गुरुवार को राज्य के दक्षिणी जिले तिरुवनंतपुरम से अपना मार्च शुरू किया और इसका उद्घाटन सीपीआई महासचिव एस सुधाकर रेड्डी ने किया था. दोनों मार्च का समापन 2 मार्च को त्रिशूर में होगा.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *