Exclusive: इंटरनैशनल बॉर्डर से आतंकी कर रहे हैं कश्मीर में घुसपैठ, NIA रिपोर्ट में हुआ खुलासा

नई दिल्ली । यह सवाल कई दिनों से उठ रहा है कि जब कश्मीर में आतंकी लगातार मार गिराए जा रहे हैं और एलओसी पर कड़ी चौकसी के चलते घुसपैठ करने में नाकाम हैं तो फिर घाटी में इनकी संख्या कम क्यों नहीं हो रही है? एनआईए रिपोर्ट में जो खुलासा हुआ है वह इस सवाल का जवाब देता है। एनआईए रिपोर्ट के मुताबिक पाकिस्तान से आतंकी इंटरनैशनल बॉर्डर के जरिए लगातार घुसपैठ कर रहे हैं, खासकर जम्मू फ्रंटियर के सांबा-कठुआ सेक्टर से। एनआईए की रिपोर्ट की कॉपी इस रिपोर्टर ने देखी है और रिपोर्ट में इसका भी खुलासा हुआ है कि 2017 से अबतक 7 बार में 33 पाकिस्तानी आतंकियों को ट्रक के जरिए कश्मीर तक पहुंचाया गया है।

ऐसे तैयार की है एनआईए ने रिपोर्ट
एनआईए ने झज्जर कोटली और नागरोटा आतंकी हमले में गिरफ्तार आरोपियों से पूछताछ की। इस केस में आरोपियों के पास से बरामद सामानों से कई जानकारियां मिलीं। पठानकोट एयरबेस पर हुए हमले के चश्मदीदों से बातचीत में भी एनआईए को कई अहम जानकारियां मिली हैं। दीनानगर टेररिस्ट अटैक केस में जो डिवाइस बरामद हुई, उसके जीपीएस डेटा से अहम लीड मिली। साथ ही इन सब केस में कॉल डीटेल रेकॉर्ड और टेक्निकल ऐनालिसिस के जरिए एनआईए को यह पुख्ता हो गया कि किस तरह इंटरनैशनल बॉर्डर के जरिए घुसपैठ हो रही है।

ओवरग्राउंड वर्कर्स करते हैं ट्रांसपोर्ट
रिपोर्ट में कहा गया है कि जैश-ए-मोहम्मद ने ओवरग्राउंड वर्कर्स का तगड़ा नेटवर्क तैयार किया है। जिन्हें पाकिस्तानी आतंकियों को रिसीव करने और फिर जम्मू से ले जाकर कश्मीर पहुंचाने का जिम्मा दिया जाता है। ओवरग्राउंड वर्कर्स को आतंकी सांबा-कठुआ बेल्ट में नैशनल हाईवे पर बुलाते हैं और वॉट्सऐप के जरिए उन्हें लोकेशन दे दी जाती है। फिर ट्रक के जरिए ये ओवरग्राउंड वर्कर्स आतंकियों को और उनके असलहे को कश्मीर पहुंचाते हैं। आंतकियों को तड़के 2 से 5 बजे के बीच पिक किया जाता है। आतंकी टनल का इस्तेमाल कर इंटरनैशनल बॉर्डर से अंदर घुसते होंगे, इस संभावना से भी रिपोर्ट में इनकार नहीं किया है। रिपोर्ट में पंजाब के गुरदासपुर सेक्टर से भी घुसपैठ की बात कही गई है। अब तक सातों बार हुई घुसपैठ में पाकिस्तानी आतंकियों को पठानकोट-जम्मू नैशनल हाईवे से पिक किया गया।

7 बार घुसपैठ में आए 33 पाकिस्तानी आतंकी
एनआईए की रिपोर्ट के मुताबिक ज्यादातर बार आतंकियों ने 5-5 के ग्रुप में घुसपैठ की। 23-24 अक्टूबर 2017 को 5 आतंकियों को उनके नेटवर्क द्वारा रिसीव किया गया। 30-31 दिसंबर 2017 की रात को 5 आतंकियों को, 14-15 जनवरी 2018 को 5 आतंकियों, 13-14 मार्च 2018 को 5 आतंकियों, 13-14 अप्रैल 2018 को 5 आतंकियों, 13-14 मई 2018 को 5 आतंकियों और 11-12 सितंबर 2018 को 3 आतंकियों को रिसीव किया गया।

ये हैं आतंक के ठिकाने
एनआईए रिपोर्ट में कहा गया है कि जम्मू रीजन के पार पाकिस्तान में आंतक के नई लॉन्च पैड बने हैं। कठुआ और बामियाल सेक्टर के दूसरी तरफ शकरगढ़, हीरा नगर सेक्टर के दूसरी तरफ सुखमल, सांबा सेक्टर के दूसरी तरफ दुरमान, आरएसपुरा सेक्टर के दूसरी तरफ हेडमराला, अखनूर सेक्टर के दूसरी तरफ बरनाला, सुंदरबनी के दूसरी तरफ पंडोली/नयाली और नौशेरा के दूसरी तरफ समहानी में आतंक के नई ठिकाने बने हैं।