आंदोलन में जान गंवाने वाले किसानों को सिंघु बॉर्डर पर श्रद्धांजलि, किसानों ने दिया 24 घंटों का अल्टीमेटम

नई दिल्ली। केंद्र के कृषि कानूनों (Farm Laws) के खिलाफ किसानों का आंदोलन 25वें दिन भी जारी है. कृषि कानूनों को वापस लेने की मांग पर अड़े किसान कड़ाके की ठंड में दिल्ली के बॉर्डर पर डटे हुए हैं. समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक, एक प्रदर्शनकारी किसान ने कहा कि “कानून खत्म कर दिए जाएं और हम दो घंटे में चले जाएंगे.” प्रदर्शन कर रहे किसान यूनियनों ने शनिवार को कहा कि वे अपना अगला कदम अगले दो तीन दिनों में तय करेंगे. किसान आंदोलन को राजनीतिक रंग दिए जाने की कोशिशों के बीच किसान संगठन ने प्रधानमंत्री मोदी और कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर को पत्र लिखकर कहा है कि विरोध प्रदर्शन किसी राजनीतिक दल से संबद्ध नहीं है. 

गाज़ीपुर बॉर्डर पर किसान नेता वीएम सिंह और प्रशासन के बीच बैठक चल रही है. प्रदर्शन के लिए आ रहे किसानों की गाड़ियां/ ट्रैक्टर रोके जा रहे हैं. अगर इसे रोका नहीं गया तो NH-24 पर आवागमन को पूरी तरह रोकने की बात कही जा रही है. प्रशासन को 24 घण्टे का अल्टीमेटम दिया गया है. अगर किसानों की गाड़ियां नहीं छोड़ी जातीं तो आवागमन पूरी तरह बाधित किया जाएगा.