ब्रिटेन-ईरान की तनातनी में फंसे नौ भारतीय हुए रिहा, बाकियों की जल्द रिहाई की उम्मीद

Spread the love

नई दिल्ली। ईरान ने समुद्री जहाज एमटी रियाह से हिरासत में लिए गए 12 भारतीयों में से नौ को गुरुवार को रिहा कर दिया। इन भारतीयों को जुलाई के पहले सप्ताह में हिरासत में लिया गया था। इस जहाज के तीन कर्मी अभी ईरानी हिरासत में हैं। इसके अतिरिक्त ब्रिटिश जहाज स्टेना इम्पेरो के चालक दल में शामिल 18 भारतीय भी ईरानी हिरासत में हैं।

इस प्रकार से कुल 21 भारतीय ईरान के कब्जे में हैं। स्टेना जहाज को ईरानी रिवोल्यूशनरी गार्ड ने पिछले सप्ताह होर्मुज स्ट्रेट में कब्जे में लिया था। तेहरान में स्थित भारतीय दूतावास के अधिकारियों ने गुरुवार को स्टेना में मौजूद 18 भारतीयों से मुलाकात की और उनका हालचाल जाना।

ब्रिटेन के कब्जे वाले ईरानी तेल टैंकर ग्रेस वन में भी 24 भारतीय मौजूद हैं। ये भारतीय टैंकर के चालक दल के सदस्य हैं। फिलहाल ये सभी पुलिस की हिरासत में हैं। सीरिया जा रहे इस टैंकर को ब्रिटिश उपनिवेश जिब्राल्टर के पास चार जुलाई को ब्रिटेन की नौसेना ने रोका था। अमेरिका और यूरोपीय यूनियन ने ईरान के तेल कारोबार पर प्रतिबंध लगा रखा है। इसी प्रतिबंध का उल्लंघन करने पर ग्रेस वन को रोका गया है।

गौरतलब है कि बुधवार को इन भारतीयों को रिहा कराने के लिए लंदन स्थित भारतीय उच्चायोग के अधिकारियों ने ब्रिटिश अधिकारियों से मुलाकात की। ब्रिटिश अधिकारियों ने भारतीयों की जल्द रिहाई का आश्वासन दिया है। भारतीय विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने सभी बंदी भारतीयों के स्वस्थ और सुरक्षित होने की जानकारी दी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *