अतिथि विद्वनों का मामला: एनएसयूआई ने दिया ज्ञापन, उच्च शिक्षा मंत्री जीतू पटवारी से कार्रवाही की मांग

Spread the love

भोपाल/जबलपुर। रानी दुर्गावती विश्वविद्यालय जबलपुर  का अतिथि विद्वनों की नियुक्ति का मामला गरमाता जा रहा है। मंगलवार को एनएसयूआई के जिला महासचिव अंशुल सिंह के नेतृत्व में छात्रों के एक प्रतिनिधीमंडल ने अतिरिक्त संचालक हायर एजुकेशन से मुलाकात की। प्रतिनिधिमंडल ने अतिथि विद्वनों की भर्ती प्रक्रिया को लेकर आरोप लगाया है कि प्रावीण्य सूची में कई उम्मीदवारों ऐसे है जिन पर न्यायालय में आपराधिक प्रकरण चल रहे है। उक्त प्रकरण की जांच कर दोषियों पर कार्रवाही की जाए। जब तक यह कार्रवाही पूर्ण न हो जाये तब तक भर्ती प्रक्रिया पर रोक लगाई जाए।

एनएसयूआई के जिला महासचिव अंशुल सिंह ने मीडिया से चर्चा के दौरान बताया कि हाईकोर्ट ने अपने आदेश में साफ कर दिया था कि मौजूदा अतिथि विद्वानों के स्थान पर नए अतिथि विद्वानों की नियुक्ति न की जाए। नियमित नियुक्तियां न होने तक वर्तमान में कार्यरत अतिथि विद्वानों की सेवा बहाल रखने की व्यवस्था के बावजूद रादुविवि ने मनमाने तरीके से नवीन अतिथि विद्वान नियुक्त करने संबंधी विज्ञापन प्रकाशित करा दिया है। अतः इस विवादित भर्ती पर रोक लगाई जाए।

s

एनएसयूआई ने आरोप लगाया ही कि रानी दुर्गावती विश्वविद्यालय में  उच्च अधिकारियों द्वारा आरएसएस पदाधिकारियों से मिलकर अतिथि विद्वान भर्ती में आरएसएस के लोगों को लाभ दिया जा रहा है। यह उच्च शिक्षा और यूजीसी के नियमों की अवहेलना और स्वायतता का दुरुपयोग है।

वहीं दूसरी ओर भोपाल में मीडिया से चर्चा के दौरान उच्च शिक्षा मंत्री जीतू पटवारी ने रानी दुर्गावती विश्वविद्यालय के मामले में ज्ञापन देने वाले एनएसयूआई प्रतिनिधिमंडल से वार्ता कर जल्द ही कार्यवाही का आश्वासन दिया। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *