सिंगाजी तपोस्थली को धार्मिक पर्यटन केन्द्र बनाएंगे: कमलनाथ

Spread the love

खण्डवा, 3 मार्च। मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कहा है कि प्रदेश में किसानों को आर्थिक रूप से आत्मनिर्भर बनाने तथा उनके समग्र कल्याण के लिए नई कृषि नीति बनाई जाएगी। साथ ही उन्होंने कहा कि निमाड़ क्षेत्र के प्रमुख संत श्री सिंगाजी की तपोस्थली को प्रमुख धार्मिक पर्यटन केन्द्र के रूप में विकसित किया जाएगा। उन्होंने कहा कि किसानों को आर्थिक रूप से आत्म निर्भर बनाने के लिए राज्य सरकार द्वारा कारगर कदम उठाये जा रहे हैं। किसानों के हित में क्रांतिकारी निर्णय लेकर उनका बेहतर अमल किया जा रहा है।
मुख्यमंत्री कमलनाथ आज इंदौर संभाग के खण्डवा जिले के मूंदी क्षेत्र में स्थित संत सिंगाजी थर्मल पावर प्लांट के समीप आयोजित समारोह को संबोधित कर रहे थे। समारोह में उन्होंने जय किसान फसल ऋण माफी योजना में किसानों को सम्मान पत्र दिये तथा सिंगाजी पावर प्लांट के द्वितीय चरण का लोकार्पण किया। मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर विभिन्न विकास कार्यो का शिलान्यास और लोकार्पण भी किया।
मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कहा कि राज्य सरकार ने गत 65 दिनों में अपनी हितैशी नीति एवं नियत का परिचय दिया है। राज्य सरकार द्वारा हर प्रदेशवासी के कल्याण के लिए संकल्पबद्ध होकर कार्य किया जा रहा है। सरकार द्वारा हर वचन को अक्षरस: रूप से निभाने के कटिबद्ध होकर प्रयास किए जा रहे हैं। जन आकांक्षाओं एवं विश्वास पर खरा उतरने के लिए निरतंर कार्य किए जा रहे हैं। सरकार द्वारा कई ऐतिहासिक निर्णय लेकर उनका अमल किया जा रहा है। किसानों के जीवन स्तर को उठाने आर्थिक रूप से मजबूत बनाने तथा उनके समग्र कल्याण के लिए लगातार कार्य किए जा रहे हैं। किसानों को कर्ज से मुक्त करने के प्रयास हो रहे हैं। पूरे प्रदेश में किसानों को 2 लाख रूपये तक का कर्जा माफ किया गया है। कृषि उत्पादकता एवं कृषि उत्पादन बढ़ाना तथा किसानों को उनकी उपज का उचित मूल्य दिलाने के लिए भी कार्य किए जा रहे हैं। प्रदेश में हम किसानों के चेहरे पर खुशी देखना चाहते हैं। कृषि क्षेत्र में नई क्रांति लाई जाएगी, इसके लिए नई कृषि नीति बनाई जाएगी। उन्होंने कहा कि संत सिंगाजी को नमन करते हुए उनकी तपोस्थली को प्रमुख धार्मिक पर्यटन केन्द्र के रूप में विकसित किया जाएगा। कमलनाथ ने कहा कि प्रदेश के युवाओं की शक्ति का सकारात्मक उपयोग किया जाएगा। रोजगार के अवसर उन्हें उपलब्ध कराए जाएंगे, इसके लिए औद्योगिक निवेश को प्रोत्साहित किया जायेगा। राज्य सरकार हर प्रदेशवासी के विश्वास पर खरा उतरने का प्रयास करेगी।
लोक स्वास्थ्य परिवार कल्याण मंत्री तुलसीराम सिलावट ने कहा कि राज्य सरकार किसानों के हितों के प्रति सजग किसानों के कल्याण के लिए ऋण माफी, रियायती दर पर बिजली उपलब्ध कराने, सिंचाई के संसाधन बढ़ाने के लिए अनेक निर्णय लेकर उनका क्रियान्वयन किया जा रहा है। किसान कल्याण एवं कृषि विकास मंत्री सचिन यादव ने कहा कि सरकार की कथनी एवं करनी में कोई अंतर नहीं है। हर वचन को पूरा करने के लिए कार्य किए जा रहे हैं। उन्होंने किसानों के हितों के संबंध में लिए गए निर्णयों की जानकारी देते हुए किसानों से तत्संबंधी योजनाओं का लाभ लेने का आग्रह किया।
ऊर्जा मंत्री प्रियव्रत सिंह ने कहा कि बिजली के बिल को हाफ करने के संबंध में योजना शुरू कर 100 रूपये में 100 यूनिट बिजली दी जा रही है। इसी तरह 700 रूपए प्रति हार्सपावर प्रति वर्ष बिजली देने का निर्णय भी लिया गया है। पूर्व में 1400 रूपए प्रति हार्सपावर प्रतिवर्ष किसानों को देना पड़ता था। इससे किसानों को आर्थिक फायदा भी पहुंचेगा। पूर्व केन्द्रीय मंत्री अरूण यादव ने राज्य सरकार द्वारा क्रियान्वित योजनाओं की जानकारी दी और राज्य सरकार के प्रति आभार व्यक्त किया। उन्होंने संत सिंगाजी महाराज की तपोस्थली को प्रमुख धार्मिक पर्यटन स्थल के रूप में विकसित करने की जरूरत भी बताई।
कार्यक्रम के शुरू में विधायक नारायण पटेल ने स्वागत भाषण दिया। समारोह में सुरेन्द्र सिंह ठाकुर, सचिन बिड़ला, श्रीमती सुमित्रा कास्डेकर मौजूद थे। खण्डवा जिले में जय किसान फसल ऋण माफी योजना में 45 हजार से अधिक किसानों के 180 करोड़ 59 लाख रूपये से अधिक की राशि का ऋण माफ स्वीकृत किया गया है।
7820 करोड़ की सबसे बड़ी ताप विद्युत परियोजना से सर्वाधिक लाभ कृषि उपभोक्ताओं को: मुख्यमंत्री कमलनाथ ने खंडवा जिले के मूंदी में मध्यप्रदेश पवार जनरेटिंग कंपनी की सबसे ताप विद्युत परियोजना श्री सिंगाजी ताप विद्युत परियोजना का लोकार्पण किया। इस परियोजना की कुल लागत 7820 करोड़ की है। श्री सिंगाजी ताप विद्युत परियोजना के द्वितीय चरण के 660-660 मेगावाट की ये दो इकाइयां सुपर क्रिटिकल तकनीक पर आधारित है। इन परियोजना की कुल स्थापित विद्युत उत्पादन क्षमता 2520 मेगावाट है। इसका सर्वाधिक लाभ कृषि उपभोक्ताओं को मिलेगा।
हर पल विकास के लिए काम किया : मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कहा है पिछले 65 दिनों में सरकार ने हर पल जनता के हित में काम किया है। उन्होंने कहा कि यह सरकार सिर्फ काम करने वाली सरकार है। आने वाले साल किसानों, नौजवानों, महिलाओं सहित हर वर्ग के लिये खुशहाली के होंगे। नाथ आज राजगढ़ में सिंचाई और पेयजल योजनाओं का शिलान्यास एवं 132/33 किलोवाट क्षमता के विद्युत उप केन्द्र का लोकार्पण कर रहे थे। उन्होंने कहा कि राजगढ़ जिले के 1580 गाँव के लोगों को सिंचाई और बिजली की सुविधा का लाभ मिलेगा।
मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कहा कि 65 दिन में सरकार ने वचन-पत्र में किये गए वादों को पूरा करने की दिशा में महत्वपूर्ण कदम उठाए हैं। किसानों का कर्ज माफ किया गया है। बिजली का बिल आधा किया गया है। अगले चार दिनों में 25 लाख किसानों का ऋण माफ कर दिया जाएगा। शेष किसानों के फसल ऋण माफ करने की प्रक्रिया जारी रहेगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि आज पढ़े-लिखे नौजवानों को रोजगार के अवसर मिल सकें, इसके लिए सरकार विशेष रूप से चिंतित है। नौजवानों को रोजगार के अवसर मुहैया कराने के लिये स्किल डेवलपमेंट का काम शुरू किया गया है। प्रदेश में औद्यौगिक निवेश को बढ़ावा देने के लिये निरंतर प्रयास किये जा रहे हैं। इससे रोजगार के नये अवसर पैदा होंगे। जनता के विश्वास पर खरा उतरने के लिए सरकार हर संभव प्रयास कर रही है। मुख्यमंत्री कमलनाथ ने किसानों को कर्ज माफी के प्रमाण-पत्र वितरित किए। राजगढ़ जिले के किसानों के 144 करोड़ रुपए के कर्ज माफ किए गए। कार्यक्रम को जिले के प्रभारी मंत्री और नगरीय विकास एवं आवास मंत्री जयवद्र्धन सिंह, ऊर्जा मंत्री प्रियव्रत सिंह तथा कृषि मंत्री सचिन यादव ने भी सम्बोधित किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *