राम मंदिर निर्माण ट्रस्ट को लेकर साधु-संतों के बीच फूट, शुरू हुआ यह नया विवाद

Spread the love

लखनऊ: अयोध्या में अब कोई जमीन विवादित नहीं रही. अब वक्त आया है रामलला को टेंट से निकालकर भव्य राम मंदिर में स्थापित किया जाए. अयोध्या में अब माहौल बदल गया है. लेकिन बदले माहौल में अब जो विवाद सामने आया है वो निराशाजनक है. सुप्रीम कोर्ट से अयोध्या केस के फैसले के बाद नवगठित होने वाले राम मंदिर निर्माण ट्रस्ट को लेकर साधु-संतों में ही फूट सामने आ गई है.

सारे विवाद के बीच अयोध्या की तपस्वी छावनी के महंत सर्वेश्वर दास ने परमहंस दास को छावनी से बहिष्कृत कर दिया है. सर्वेश्वर दास ने कहा कि उन्होंने परमहंस दास को उत्तराधिकारी बनाया था लेकिन उनकी बयानबाज़ी आचरण के मुताबिक़ नहीं है, इसलिए आज से परमहंस दास का तपस्वी छावनी से कोई संबंध नहीं है.

इसी मामले को लेकर राम मंदिर निर्माण के लिए अनशन करने वाले संत परमहंस दास और श्री राम जन्म भूमि न्यास के वरिष्ठ सदस्य डॉ रामविलास दास वेदांती का ऑडियो वायरल हुआ है. जिसमें न्यास अध्यक्ष महंत परमहंस दास को लेकर अभद्र टिप्पणी की गई, जिसके बाद 2 दर्जन से अधिक छोटी छावनी के संतों ने तपस्वी छावनी पहुंच जमकर हंगामा काटा.

इसके बाद मौके पर पहुंची पुलिस फोर्स ने महंत परमहंस दास को जिले से बाहर भेज दिया. साथ ही तपस्वी छावनी और हिंदू धाम की सुरक्षा बढ़ा दी. इसके बाद अयोध्या के संतों में जुबानी जंग तेज हो गई.

हंगामे के बाद न्यास के वरिष्ठ सदस्य डॉ रामविलास दास वेदांती ने अपना एक वीडियो जारी किया जिसमें साफ-साफ महंत परमहंस दास पर आरोप लगाते हुए कहा कि कोई दूसरा उनकी आवाज में बात कर रहा है और उस ऑडियो से उनका कोई लेना-देना नहीं है. इस तरह का ऑडियो वायरल करके महंत परमहंस दास मुझे बदनाम करने का षड्यंत्र रच रहे हैं, मैंने कभी भी पूज्य नृत्य गोपाल दास के लिए ऐसे शब्दों का प्रयोग नहीं किया. तो वहीं दूसरी तरफ विश्व हिंदू परिषद की तरफ से इस तरह के अशोभनीय शब्दों का प्रयोग करने को दुर्भाग्यपूर्ण बताया गया.

महंत परम हंसदास के घर पर हुआ हमला
तपस्वी छावनी के महंत परमहंस के इस बयान कि राम जन्मभूमि न्यास के अध्यक्ष नृत्य गोपाल दास धन और पद की चाह में राम जन्मभूमि न्यास को ही बनाए रखना चाहते हैं और राम मंदिर निर्माण का पैसा इस्तेमाल करते हैं. इसके बाद नृत्य गोपाल दास के शिष्य और समर्थकों ने महंत परम हंसदास के घर पर हमला कर दिया और उन्हें जबरन घर से बाहर निकालने की कोशिश की, लेकिन बड़ी संख्या में पहुंची फोर्स ने किसी तरह परमहंस को बाहर निकाला और अपने साथ सुरक्षित स्थान पर ले गई.

नृत्य गोपाल दास पर हत्या करवाने का आरोप

यही नहीं राम विलास वेदांती के भी इस तरह के बयान को लेकर नृत्य गोपाल दास समर्थकों में नाराजगी है, इसीलिए रामविलास दास वेदांती के घर की सुरक्षा बढ़ा दी गई है. इसी बीच जिले से बाहर भेजे गए परमहंस दास ने भी एक वीडियो जारी किया जिसमें अपनी बढ़ती लोकप्रियता को लेकर राम जन्म भूमि न्यास के अध्यक्ष महंत नृत्य गोपाल दास पर अपने शिष्यों के द्वारा हत्या करवाने की कोशिश और तोड़फोड़ करने का आरोप लगाया. साथ ही तपस्वी छावनी पर कब्जा करने की कोशिश सहित कई मंदिरों पर अवैध रूप से कब्जा करने का भी आरोप लगाया.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *