25 फरवरी को रानी दुर्गावती विश्वविद्यालय में कार्य का बहिष्कार

Spread the love

जबलपुर । वेतनमान और नियमितीकरण की मुख्य मांगों सहित अन्य मांगों के निराकरण को लेकर विश्वविद्यालयीन कर्मचारी महासंघ के आव्हान पर 25 फरवरी को रानी दुर्गावती विश्वविद्यालय के कर्मचारी कार्य का बहिष्कार करेंगे। शनिवार को महासंघ के पदाधिकारियों के साथ कर्मचारी संघ के प्रतिनिधियों ने कुलपति प्रो. कपिल देव मिश्र एवं कुलसचिव प्रो. राकेश बाजपेयी को पत्र देकर इसकी सूचना दी।
कर्मचारी संघ के उपाध्यक्ष संजय यादव ने बताया कि अगर 24 फरवरी तक शासन ने महासंघ की मांगें नहीं मानी तो 25 फरवरी को कर्मचारी लंबित समस्याओं को लेकर कार्य का बहिष्कार कर आंदोलन करेंगे। इसकी पूर्व सूचना देते हुए कुलपति एवं कुलसचिव को पत्र सौंपे गए हैं।

मीडिया से चर्चा के दौरान उन्होंने कहा कि विश्वविद्यालय में 20 वर्षों से सेवा कर रहे दैनिक वेतनभोगी और स्थायी कर्मियों के प्रति विश्वविद्यालय एवं सरकार संवदेनहीन बनी हुई है, हमारी मांग है कि अतिशीघ्र नियमानुसार स्वीकृत पदों पर इन्हें नियमित किया जाए।

ये है प्रमुख मांगें

  • राज्य शासन के कर्मचारियों की तरह विश्वविद्यालय के कर्मचारियों को भी सातवें वेतनमान की अंतर राशि का भुगतान किया जाए।
  • वर्ष 2013 में नियमित किये गए कर्मचारियों को माननीय उच्च न्यायालय एवं राज्य शासन के निर्देशानुसार वास्तविक लाभ मिले।
  • मृत कर्मचारियों के आश्रितों को अनुकंपा नियुक्ति प्रदान की जाए।
  • एक पद पर 10 वर्ष की सेवा पूर्ण कर चुके कर्मचारियों को समयमान वेतनमान का लाभ प्रदान करना।
  • वर्ष 1989 में विशेष भर्ती अभियान के तहत तदर्थ नियुक्त कर्मचारियों को नियुक्ति की तिथि से नियमित नियुक्ति मान्य करना।
  • कर्मचारियों में वेतन विसंगतियों को दूर करना।
  • कर्मचारियों के आवासों का यथाशीघ्र निर्माण कर आवास आबंटित करना।

वरिष्ठता के आधार पर उप कुलसचिव का दिया जाए प्रभार

रानी दुर्गावती विश्वविद्यालय के वरिष्ठ उप कुलसचिव मेघराज निनामा को किसी भी विभाग का प्रभार न देने से कर्मचारी संघ में भारी असंतोष है। कर्मचारी संघ ने मांग की है कि वरिष्ठ उप कुलसचिव मेघराज निनामा को स्थापना विभाग का प्रभार सौंपा जाए। वर्तमान में कुलपति कपिल देव मिश्र ने स्थापना, परीक्षा सहित कई विभागों का प्रभार कुलसचिव दीपेश मिश्र को सौप रखा है, नियमानुसार तीन साल के बाद उनका प्रभार बदल जाना था। इन्ही नियमों की अनदेखी के कारण कर्मचारी संघ खासा नाराज है।

 

ये भी पढ़ें :

रादुविवि के नकल विहीन परीक्षा के दावे खोखले, जानिए क्या है कारण

डिप्टी रजिस्ट्रार दीपेश मिश्रा परीक्षाओं में करते हैं धांधली: ईसी मेंबर का आरोप

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *