रादुविवि : भ्रष्टाचार के खिलाफ आवाज उठाना छात्र नेता पर पड़ा भारी

Spread the love

जबलपुर। रानी दुर्गावती विश्वविद्यालय में हो रही अनियमितताओं एवं भ्रष्टाचार को लेकर लगातार आवाज उठाना छात्र नेता सोमदत्त यादव को इतना महंगा पड़ा कि रादुविवि के कुछ अधिकारी झूठे आरोप लगाकर छात्र नेता का उत्पीड़न शुरू कर दिया है। विदित हो कि विश्वविद्यालय के परीक्षा विभाग में हो रही अनियमितताओं को उजागर करने के बाद छात्र नेता को अधिकारियों द्वारा फर्जी मुकदमे में फसाने की लगातार धमकियां दी जाती रही थी।

ये भी पढ़ें : रादुविवि छात्रसंघ ने दिया ज्ञापन: भ्रष्टाचार के जांच की मांग

छात्र नेता ने विश्वविद्यालय के उपकुलसचिव पर आरोप लगाते हुए कहा है कि उपकुलसचिव विवि के कुछ असामाजिक तत्वों के साथ मिलकर मुझे फसाने की कोशिश कर रहे है। इन असामाजिक तत्वों द्वारा मेरे नाम से पत्र लिखकर किसी को भी भेज जा रहा है।यह सब इसलिए किया जा रहा ताकि विवि में बड़े पैमाने पर हो रहे भ्रष्टाचार पर पर्दा डाला जा सके।  छात्र नेता ने कुलपति को आवेदन देकर उनको फसाने के उद्देश्य से लिखे गए पत्र की फॉरेंसिक जांच कराने की मांग की है।

ये भी पढ़ें : रादुविवि: अपर मुख्य सचिव तक पहुँचा दीपेश मिश्रा के भ्रष्टाचार का मामला

व्यक्तिगत ईमानदारी से ही लगेगी भ्रष्टाचार पर लगाम: सोमदत्त

छात्र नेता सोमदत्त यादव ने मीडिया को बताया कि रादुविवि के विद्यार्थी भ्रष्टाचार से मुक्ति चाहते है। सभी मानते हैं कि विश्वविद्यालय के सभी विभागों में भ्रष्टाचार की जड़े गहराई तक पैठ बना चुकी है। ऐसे में भ्रष्टाचार पर लगाम सिर्फ विश्वविद्यालय के प्रयास और कानूनी कार्रवाही से नहीं लगेगा। इसके लिए आवश्यक है कि विवि के कुलपति, कुलसचिव सहित सभी अधिकारी और कर्मचारी व्यक्तिगत ईमानदारी के लिए यत्न करे।

विश्वविद्यालय के भ्रष्टाचार की चार्जशीट तैयार

छात्रनेता ने ऐलान किया कि आने वाले दिनों में विश्वविद्यालय के खिलाफ एक आंदोलन दिल्ली एवं भोपाल में चलाया जाएगा। प्रशासन के खिलाफ चार्जशीट की बुकलेट बना ली गयी है जो जल्द ही प्रधानमंत्री, मुख्यमंत्री, राज्यपाल सहित एमएचआरडी एवं उच्च शिक्षा के अधिकारियों को सौपी जाएगी।

ये भी पढ़ें :

डिप्टी रजिस्ट्रार दीपेश मिश्रा परीक्षाओं में करते हैं धांधली: ईसी मेंबर का आरोप

रादुविवि के नकल विहीन परीक्षा के दावे खोखले, जानिए क्या है कारण

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *