स्वच्छता सर्वेक्षण 2019 : छोटे शहरों में उज्जैन बना नंबर वन, ऐसे पाई उपलब्धि

Spread the love

दिल्ली/उज्जैन। स्वच्छता सर्वेक्षण 2019 के परिणाम घोषित हो गए हैं। इंदौर ने जहां 10 लाख से ज्यादा की आबादी वाले शहरों में बाजी मारी, वहीं 3 से 10 लाख की आबादी वाले शहरों में धर्मनगरी उज्जैन अव्वल रहा। उज्जैन शुरू से ही नंबर एक शहर की दौड़ में था।

लेकिन उज्जैन के लिए ये उपलब्धि काफी उल्लेखनीय है क्योंकि महाकाल की नगरी होने के कारण यहां पूरे समय बड़ी संख्या में पर्यटकों और भक्तों का आना-जाना रहता है, ऐसे में सफाई व्यवस्था को बनाए रखना बड़ी चुनौती है। उज्जैन ने 5000 में से 4244.47 अंक हासिल कर नंबर एक स्थान हासिल किया।

मिल चुका है ओडीएफ डबल प्लस सर्टिफिकेट

उज्जैन में लोगों को स्वच्छता बनाए रखने, डोर टू डोर कचरा कलेक्शन वाहन में डालने, सूखा एवं गीला कचरा अलग करने की समझाईश दी जाती रही है। छोटे शहरों की श्रेणी में नंबर एक बने उज्जैन की ओर से महापौर मीना जोनवाल ने राष्ट्रपति के हाथों पुरस्कार लिया। इससे पहले उज्जैन को स्वच्छता के लिए क्वालिटी कौंसिल ऑफ इंडिया की ओर से ओडीएफ डबल प्लस सर्टिफिकेट भी मिल चुका है। इस सर्टिफिकेट के तहत मिले 250 अंकों ने ओवरऑल सर्वेक्षण में उज्जैन के लिए अहम भूमिका निभाई।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *