ISRO : मोदी ने इसरो मुख्यालय में वैज्ञानिकों से कहा- देश को वैज्ञानिकों पर गर्व है, यह यात्रा जारी रहेगी

Spread the love

नई दिल्ली/बेंगलुरु। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी चंद्रयान-2 के लैंडर विक्रम को चंद्रमा पर उतरता देखने शुक्रवार रात ही बेंगलुरु पहुंच गए। इस बीच लैंडर का कंट्रोल रूम से संपर्क टूट जाने पर प्रधानमंत्री ने वैज्ञानिकों की हौसला बढ़ाते हुएकहा कि जीवन में उतार-चढ़ाव आते रहते हैं। जो आपने किया वो छोटा नहीं है। आगे भी हमारी कोशिशें जारी हैं। देश को अपने वैज्ञानिकों पर गर्व है। मैं पूरी तरह वैज्ञानिकों के साथ हूं। आगे भी हमारी यात्रा जारी रहेगी। मैं आपके साथ हूं हिम्मत के साथ चलें। आप के पुरुषार्थ से देश फिर से खुशी मनाने लग जाएगा।प्रधानमंत्री के साथ60 से ज्यादा बच्चे चंद्रयान-2 की लैंडिंग देखने पहुंचे थे।

मिशन से पहले शुक्रवार को ही मोदी ने ट्वीट कर कहा था कि वे इस असाधारण पल को देखने के लिए बेहद उत्साहित हैं। मोदी ने कहा- मिशन की सफलता से करोड़ों भारतीयों को फायदा होगा। 130 करोड़ भारतीय उत्सुकता से इस पल का इंतजार कर रहे हैं। अब से कुछ घंटों बाद चंद्रयान-2 चंद्रमा के दक्षिणी पोल पर उतरेगा। भारत और पूरी दुनिया हमारे अंतरिक्ष वैज्ञानिकों की असाधारण ताकत को देखेंगे।

स्पेस क्विज जीतने वाले बच्चे मोदी के साथ देखेंगे चंद्रयान-2 की लैंडिंग

मोदी ने ट्वीट किया- इंडियन स्पेस प्रोग्राम के इतिहास के असाधारण पल का गवाह बनने के लिए मैं इसरो मुख्यालय में मौजूद रहूंगा और इसे लेकर मैं बेहद उत्साहित हूं। अलग-अलग राज्यों से युवा भी इस खास मौके को देखने के लिए वहां मौजूद रहेंगे। वहां भूटान के युवा भी मौजूद रहेंगे।मोदी इसरो सेंटर में हाईस्कूल के छात्रों के साथ मौजूद रहेंगे। ये बच्चे पिछले महीने ऑनलाइन स्पेस क्विज में शामिल हुए थे और प्रतियोगिता में जीत हासिल की थी।

सोशल मीडिया पर तस्वीरें जरूर शेयर करें- मोदी
प्रधानमंत्री ने लोगों से अपील की कि इस ऐतिहासिक पल की फोटो सोशल मीडिया पर शेयर करें। उन्होंने ट्वीट किया- मैं आप सबसे अपील करता हूं कि चंद्रयान-2 के चंद्रमा के दक्षिणी पोल पर उतरने के ऐतिहासिक मौके को जरूर देखें। इसकी तस्वीरें सोशल मीडिया पर जरूर शेयर करें। मैं उनमें से कुछ तस्वीरें री-ट्वीट भी करूंगा।

मोदी ने चंद्रयान-2 की लॉन्चिंग अपने दफ्तर में देखी थी
22 जुलाई को दिल्ली स्थित अपने दफ्तर में मोदी ने चंद्रयान-2 की लॉन्चिंग देखी थी। प्रधानमंत्री उस वक्त इसरो के वैज्ञानिकों के साथ ही तालियां बजाते नजर आए थे, जब रॉकेट ने यान को कक्षा में सफलतापूर्वक स्थापित किया था। शुक्रवार को किए गए ट्वीट में उन्होंने कहा कि चंद्रयान-2 की लॉन्चिंग के बाद से ही वे लगातार इसके हर अपडेट पर नजर रख रहे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *