रवि शास्‍त्री ने दिए संकेत, टी-20 वर्ल्ड कप में इन 5 खिलाड़ियों के अलावा बदल जाएगी पूरी टीम!

Spread the love

नई दिल्ली। आईसीसी वर्ल्ड कप 2019 (ICC World Cup) का चैंपियन इंग्लैंड बन चुका है. अब सभी क्रिकेट खेलने वाले देशों की निगाहें अगले साल ऑस्ट्रेलिया में होने वाले टी-20 वर्ल्ड कप (T20 World Cup) पर हैं. भारतीय टीम भी इस टूर्नामेंट को जीतने के लिए पूरा जोर लगाएगी. रवि शास्‍त्री (Ravi Shastri) को दोबारा से टीम इंडिया (Team India) का कोच चुन लिया गया है और अब उन्होंने टी-20 वर्ल्ड कप के लिए टीम की तैयारियों का खाका खींचना शुरू कर दिया है. रवि शास्‍त्री 2021 तक टीम के कोच रहेंगे. इस दौरान भारतीय टीम को वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप (World Test Championship), दो टी-20 वर्ल्ड कप जैसे अहम टूर्नामेंट खेलने हैं.

रवि शास्‍त्री (Ravi Shastri) ने टीम इंडिया का दोबारा कोच बनने के बाद कहा है कि खिलाड़ी भविष्य की चुनौतियों से अच्छी तरह वाकिफ हैं और उनका सामने करने के लिए उत्सुक भी हैं. टी-20 वर्ल्ड कप की तैयारियों के मद्देनजर शास्‍त्री ने कहा कि इस प्रारूप में हम चौथे नंबर पर हैं और ऐसा इसलिए है क्योंकि हमने हालिया समय में अधिक टी-20 मैच नहीं खेले हैं. इस प्रारूप में हमारा काम जारी है और अभी बहुत काम किया जाना बाकी है.

युवाओं पर फोकस
टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के अनुसार, टीम इंडिया के कोच ने कहा कि अब 2020 और 2021 में लगातार दो साल टी-20 वर्ल्ड कप होना है और वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप का चरण शुरू हो चुका है. टी-20 क्रिकेट में हमें युवा खिलाड़ियों की दरकार है. टी-20 एक अलग तरह का खेल है और हम इसी हिसाब से भविष्य के लिए इसे देख रहे हैं.

ये 5 हैं प्लान का हिस्सा
मौजूदा वनडे प्रारूप के चार या पांच खिलाड़ी ही टी-20 टीम में फिट बैठ रहे हैं. ऐसे में हमें इसी बात को ध्यान में रखते हुए टीम तैयार करनी है. माना जा रहा है कि मौजूदा टीम में से विराट कोहली, रोहित शर्मा, ऋषभ पंत, केएल राहुल और जसप्रती बुमराह ही अगले साल टी-20 वर्ल्ड कप में भारतीय टीम का हिस्सा होंगे. ऐसे में बाकी नए खिलाड़ियों को आजमाया जाएगा.

2018 में 10 से 12 खिलाड़ियों ने डेब्यू किया

टीम इंडिया (Team India) की मजबूत बैंच स्ट्रेंथ का हवाला देते हुए रवि शास्‍त्री (Ravi Shastri) ने कहा कि हम भविष्य की योजनाओं के हिसाब से प्रतिभाएं देख रहे हैं. जसप्रीत बुमराह (Jasprit Bumrah), कुलदीप यादव (Kuldeep Yadav), हार्दिक पंड्या (Hardik Pandya), मयंक अग्रवाल (Mayank Aggarwal) और विजय शंकर (Vijay Shankar) जैसे खिलाड़ी यहां हैं और लगातार आगे बढ़कर प्रदर्शन कर रहे हैं. अकेले 2018 में करीब 10 से 12 खिलाड़ियों ने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में डेब्यू किया है.

वर्ल्ड कप सेमीफाइनल में मिली हार सबसे बड़ी निराशा
पिछले दो साल में वर्ल्ड कप के सेमीफाइनल (ODI World Cup Semi Finals) में न्यूजीलैंड के हाथों मिली हार को सबसे बड़ी निराशा बताते हुए रवि शास्‍त्री ने कहा कि हमने पूरे टूर्नामेंट में बेहतरीन खेल दिखाया. हमने अन्य टीमों की तुलना में अधिक मैच जीते, लेकिन एक खराब दिन और एक खराब सत्र ने सब कुछ बिखेरकर रख दिया.

चुनौतियां पसंद हैं, इसलिए दोबारा बना कोच
रिपोर्ट के अनुसार जब रवि शास्‍त्री से पूछा गया कि ऐसे में जबकि रिटायरमेंट कटऑफ उम्र 60 साल है तो वे दोबारा कोच क्यों बनना चाहते थे, उन्होंने कहा कि मुझे चुनौतियां पसंद हैं. यही एक चीज मुझमें आज तक नहीं बदली है. एक टीम जिसे आपमें विश्वास है आपको अपने साथ चाहती है ताकि हर किसी के बीच स्वस्‍थ माहौल बनाया जा सके.

वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप से बढ़ा है दबाव
रवि शास्‍त्री ने वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप को लेकर पूछे गए सवाल के जवाब में कहा कि निश्चित रूप से इससे दबाव बढ़ा है और आपको शीर्ष पर रहने के लिए सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करना होगा. टेस्ट क्रिकेट की खूबसूरती यही है कि आप विपक्षी टीम के घर या फिर अपने घर में मुश्किल हालात में क्रिकेट खेलते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *