छत्तीसगढ़ : 35वां चक्रधर समारोह : भरत नाट्यम, कत्थक और लोकगीतों की प्रस्तुति से दर्शक हुए मंत्रमुग्ध

Spread the love

रायपुर। चक्रधर समारोह के आठवें दिन बिलासपुर से आईं कथक नृत्यांगना  तनु चौहान ने मनमोहक प्रस्तुति देकर दर्शकों का खुश कर दिया। इसके बाद रायगढ़ की आशा चंद्रा एवं उनकी टीम के द्वारा छत्तीसगढ़ के विविध रंगों से सजे लोकगीतों की प्रस्तुति ने लोगों को मंत्रमुग्ध कर दिया। टीम  द्वारा लोकगीत के माध्यम से छत्तीसगढ़ की संस्कृति का सजीव चित्रण किया गया।

35वां चक्रधर समारोह : भरत नाट्यम, कत्थक और लोकगीतों की प्रस्तुति  से दर्शक हुए मंत्रमुग्ध

कर्नाटक से आईं भरतनाट्यम की प्रख्यात नृत्यांगना  बाला विश्वनाथ और उनके ग्रुप द्वारा दी गई प्रस्तुति ने खूब प्रशंसा बटोरी। उन्होंने पौराणिक कथाओं पर आधारित समुद्र मंथन, दशावतार और हिरण्यकश्यप वध की जीवंत प्रस्तुति देकर लोगों को मंत्रमुग्ध कर दिया। वाराणसी से आये राहुल-रोहित मिश्रा ने शास्त्रीय गायन की शानदार प्रस्तुति दी। उनकी ठुमरी और कजरी ने दर्शकों की सराहना मिली। दुर्ग से आये छत्तीसगढ़ी लोकगायक सुनील सोनी ने छत्तीसगढ़ी गीत सुनाकर दर्शकों का खूब मनोरंजन किया। समारोह में बिलासपुर विधायक शैलेश पांडेय मुख्य अतिथि के रूप में शामिल हुए। उनके साथ रायगढ़ विधायक प्रकाश नायक, उर्वशी देवी, देवेन्द्र प्रताप सिंह सहित अनके जनप्रतिनिधि उपस्थित थे। सभी अतिथियों ने राजा चक्रधर के चित्र पर पुष्प अर्पित और दीप प्रज्ज्वलित कर कार्यक्रम का शुभारंभ किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *