मध्य प्रदेश / हनी ट्रैप मामले में केंद्रीय जांच एजेंसी की एंट्री ईडी ने एसआईटी से मांगा लेन-देन का ब्योरा

Spread the love

भोपाल। हनीट्रैप मामले में अब केंद्रीय जांच एजेंसी प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) की एंट्री हो गई है। ईडी ने इस मामले की जांच कर रही एसआईटी से आरोपी महिलाओं द्वारा नेताओं-अफसरों से करोड़ों रुपए के नकद लेन-देन के संबंध में जानकारी मांगी है। ईडी ने पूछा है कि हनी ट्रैप में आरोपी महिलाओं और कथित नेताओं-अफसरों के बीच पैसे का कितना लेन-देन हुआ है। क्या इन सभी के बीच नकद राशि का भुगतान हुआ?

हाईकोर्ट में आरोपियों ने लगाई है याचिका
हाल ही में भाजपा सरकार में मंत्री रहे लक्ष्मीकांत शर्मा और एक आईएएस अफसर का कथित वीडियो-ऑडियो वायरल होने के बाद हनी ट्रैप की आरोपी मोनिका यादव और श्वेता विजय जैन ने पहले इंदौर कोर्ट और बाद में हाईकोर्ट याचिका दाखिल की है। आरोपियों ने मांग की है कि बार-बार लीक हो रहे वीडियो पर तत्काल रोक लगाई जाए। हाईकोर्ट में इस मामले में 2 दिसंबर को सुनवाई हाेनी है।

एक अन्य अफसर का वीडियो वायरल
हनीट्रेप मामले की जांच के बीच अभी तक दो वीडियो सोशल मीडिया में वायरल हुए हैं। एक आईएएस अफसर की सीडीआर रिपोर्ट और ऑडियो कॉलिंग सामने आई है। हालांकि अभी तक एसआईटी ने वीडियो अधिकृत होने की कोई पुष्टि नहीं की है। एसआईटी ने जांच का दायरा जरूर बढ़ा दिया है। एसआईटी ने वीडियो वायरल होने के बाद कुछ नोटिस जारी किेए है। ये खंगाला जा रहा है कि वीडियो लीक कैसे हो रहे है।

इसलिए ईडी को देना पड़ रहा दखल
इस मामले की जांच में ये तथ्य सामने आए थे कि आरोपी महिलाओं द्वारा आपत्तिजनक वीडियो वायरल करने की धमकी देकर एक अफसर से 50 लाख रुपए नकद लेने, जबकि एक अन्य अफसर द्वारा तीन करोड़ रुपए तक नकद देने की शिकायतें आ चुकी हैं। इसलिए ईडी ने इन लेन-देन की जांच शुरू की है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *