मध्यप्रदेश : मुख्यमंत्री कमलनाथ ने 11500 से ज्यादा लोगों का कराया इलाज

Spread the love

भोपाल। मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ ने बीमार गरीब लोगों की मदद मुख्यमंत्री पद की शपथ लेते ही शुरू कर दी थी और लगातार जारी है। अब तक 11548 गरीब और बेसहारा लोगों को इलाज के लिए मुख्यमंत्री स्वेच्छानुदान निधि से पैसे मिले हैं। यह राशि 65 करोड़ 45 लाख है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार यह सहायता राशि सीधे संबंधितों के उपचार के लिए चिकित्सा संस्थानों को भिजवाने के आदेश हैं, ताकि इलाज न रुके। मुख्यमंत्री स्वेच्छानुदान राशि विधानसभा चुनाव से पूर्व खर्च हो चुकी थी इसलिए कमलनाथ ने गंभीर बीमारी से जूझने वाले लोगों की समस्याओं को गंभीरता से लेते हुए एक तरफ जहां 7 करोड़ रूपये का तत्काल इंतजाम किया। वहीं दूसरी तरफ पूर्ववर्ती सरकार में मुख्यमंत्री स्वेच्छानुदान निधि एक वित्तीय वर्ष में स्वीकृत राशि से अधिक एक अरब 20 करोड़ रूपये थी, जिसको पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान मध्यप्रदेश विधानसभा चुनाव की आदर्श आचार संहिता प्रभावशील होने के पहले ही खर्च कर चुके थे। लिहाजा इलाज के लिये गरीब और बेसहारा लोगों को राशि की दरकार थी।

राज्य का खजाना खाली होने के कारण अधिकारियों को निर्देशित करते हुए 7 करोड़ रूपए की राशि का तत्काल इंतजाम करवाया उसी राशि से प्रदेश भर के कैंसर, किडनी ट्रांसप्लांट, डायलिसिस और दुर्घटना में गंभीर रूप से घायल 18 दिसंबर 2018 से 16 जनवरी 2019 तक लगभग एक माह के दौरान 651 प्रभावितों को पहुंचाई थी। इसके बाद यह सिलसिला और आगे बढ़ा और 31 अगस्त 2019 तक 11548 परिवारों को कुल 65 करोड़ 45 लाख 8970 की राशि उपलब्ध कराई। लोकसभा चुनाव की आदर्श आचार संहिता प्रभावशील होने से पूर्व लगभग 22 करोड़ रुपए और लोकसभा चुनाव की आदर्श आचार संहिता समाप्त होने के पश्चात 23 मई 2019 से 31 अगस्त 2019 तक कुल 11548 परिवारों को सहायता राशि के रूप में कुल राशि 65 करोड़ 45 लाख 8970 वितरित की गई है। एक वित्तीय वर्ष में मुख्यमंत्री स्वेच्छानुदान निधि की राशि का प्रावधान 70 करोड़ रुपये का है। नागरिकों के इलाज के लिए फंड की समस्या नहीं आने देंगे, यह बात कमलनाथ मुख्यमंत्री मध्यप्रदेश ने कही। यह राशि खर्च हो जाने के बाद इस जनकल्याण के कार्य को देखते हुए इमरजेंसी फंड से इंतजाम मुख्यमंत्री के निर्देशानुसार होगा।

मुख्यमंत्री कमलनाथ के इस प्रयास से प्रदेश के कई ऐसे गरीब तबके लोगों को फायदा पहुंचा है और उनका वर्तमान सरकार के प्रति विश्वास पहले से ज्यादा मजबूत हुआ है। हालांकि मुख्यमंत्री कमलनाथ शुरूआती दौर से ही गंभीर बीमारियों का इलाज आम लोगों के लिए कराते हुए है। इसके पहले वह दिल्ली में मंत्री हुआ करते थे तब उनके निवास पर प्रतिदिन कई लोग इलाज कराने की मांग को लेकर पहुंचते थे और मुख्यमंत्री ने भी उनका पूरा इलाज कराया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *