income tax की जांच में फंसे विधायकों को नोटिस, दोषी हुए तो संकट में आ जाएगी कमलनाथ सरकार

Spread the love

भोपाल। भाजपा के दो विधायक अपने खेमे में मिलाने वाली कांग्रेस की कमलनाथ सरकार के लिए खतरा टला नहीं है। ऐसी खबरें आ रही हैं कि एक जांच में फंसने के बाद विधायकों की सदस्यता खत्म हो सकती है। यदि ऐसा हुआ तो राज्य सरकार संकट में आ सकती है।

मध्यप्रदेश की कमलनाथ सरकार पर से खतरा टला नहीं है। खबरों के मुताबिक मध्यप्रदेश विधानसभा में कमलनाथ सरकार की सीटों का समीकरण गड़बड़ा सकता है, जो कमलनाथ सरकार को मुसीबत में डाल सकता है।

तो 30 विधायक हो सकते हैं कम
मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक आयकर विभाग की जांच में विधानसभा चुनाव के दौरान 30 विधायकों ने शपथ पत्र में बताई गई आय और पांच साल के आयकर रिटर्न में बताई गई आय में काफी फर्क आ रहा है। इनमें से 16 विधायकों को आयकर विभाग ने सम्मान जारी कर जवाब मांगा है। इन विधायकों को 15 दिन में जवाब देना है।

रद्द हो सकती है सदस्यता
जिन 30 विधायकों की आय में फर्क मिला है, उनमें से भाजपा के 5, कांग्रेस के 9 विधायक और एसपी और बीएसपी के एक-एक विधायक भी शामिल हैं।
आयकर विभाग की जांच में फंसे विधायक यदि संतोषजनक जवाब नहीं देते हैं तो उनके चुनाव के दौरान दिए गए शपथ-पत्र और आयकर रिटर्न में फर्क के बाद सुप्रीम कोर्ट के आदेश और इलेक्शन कमीशन की गाइडलाइंस के आधार पर उनकी विधानसभा से सदस्यता रद्द की जा सकती है।

क्या-क्या हुआ
-प्रत्याशियों के 2013 और 2018 के विधानसभा चुनाव के दौरान दिए गए शपथ-पत्र की जांच की गई।
-इसमें प्रत्याशियों की ओर से दिए गए शपथ पत्र में घोषित संपत्ति का मिलान किया जाएगा और पिछले पांच साल के आयकर रिटर्न में घोषित व्यवसाय, आमदनी समेत कुल जायदाद का आंकलन किया जाएगा।
-आयकर विभाग की जांच के बाद यदि चुनाव आयोग कोई कार्रवाई करता है तो स्पष्ट है कि सबसे ज्यादा नुकसान कांग्रेस, समाजवादी पार्टी (एसपी) और बीएसपी के विधायकों को होगा। यदि ऐसा होता है तो अपने समर्थकों के साथ कांग्रेस की कमलनाथ सरकार संकट में आ सकती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *