व्यापार का भविष्य सुरक्षित करने के लिये ई-कॉमर्स अपनाना जरूरी- कमलनाथ

Spread the love

भोपाल। मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कॉन्फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) के प्रतिनिधि मंडल से चर्चा करते हुए कहा कि विश्वभर में ऑनलाइन बिजनिस को बढ़ते देख यह आवश्यक हो गया है कि आने वाले समय में व्यापारियों को ई-कॉमर्स सिस्टम अपनाना होगा। उन्होंने कहा कि व्यवसाय को ऑफलाइन के साथ-साथ आनॅलाइन पर भी रखें।

आधिकारिक जानकारी के अनुसार श्री कमलनाथ ने कहा कि मध्यप्रदेश में ई-कॉमर्स सिस्टम अभियान के रूप में चलायेंगे। विश्वविद्यालयों के छात्र-छात्राएँ इसमें प्रतिभागी रहेंगे। छोटे कारोबारियों को बिना किसी आर्थिक भार के ई-कॉमर्स में शामिल किया जायेगा।

मुख्यमंत्री ने कहा कि मंडियों में किसानों को नगद भुगतान आवश्यक है। बैंकों में कैश उपलब्ध न होने की स्थिति में किसान को परेशानी होती है। उन्होंने कहा कि हम केन्द्र सरकार से बात करेंगे ताकि व्यापरियों को परेशानी न हो और किसान को भी उसकी फसल का पैसा तुरंत मिले, इसके लिए योजना बनाई जायेगी।

मुख्यमंत्री ने कॉन्फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) के ‘‘बैज‘‘ का लोकार्पण किया। कैट के प्रदेश अध्यक्ष भूपेन्द्र जैन ने मुख्यमंत्री को पहला बैज लगाकर सम्मानित किया। मुख्यमंत्री ने कहा कि महिला उद्यमियों के लिये प्रत्येक जिले में मुद्रा लोन शिविर लगाये जायेंगे। विश्वविद्यालय स्तर पर स्टार्टअप समिट होगी। मुख्यमंत्री ने व्यापारियों और कारोबारियों को आमंत्रित करते हुए कहा कि जो अधिक से अधिक रोजगार देगा, उसको राज्य शासन से हरसंभव मदद मिलेगी।

इस अवसर पर कैट के राष्ट्रीय महामंत्री प्रवीण खंडेलवाल ने कैट, सीएससी, मास्टर कार्ड एवं ग्लोबल लिंकर ई-कॉमर्स बिजनिस की परिकल्पना से मुख्यमंत्री को अवगत कराया। उन्होंने कहा कि कैट राज्य शासन के साथ मिलकर प्रदेश के आर्थिक विकास के लिए कार्य करने के लिए तैयार है।

इस मौके पर मुख्यमंत्री के प्रमुख सचिव अशोक वर्णबाल, वरिष्ठ राष्ट्रीय उपाध्यक्ष कैलाश अग्रवाल, प्रदेश अध्यक्ष भूपेन्द्र जैन, ग्लोबल लिंकर के समीर वकील, कैट के सोशल मीडिया प्रभारी सुमित अग्रवाल, राष्ट्रीय उपाध्यक्ष राधेश्याम माहेश्वरी, सेन्ट्रल जोन कोर्डिनेटर रमेश गुप्ता, महामंत्री मुकेश अग्रवाल, संयुक्त सचिव मनोज चौरसिया, अजय चौरसिया, अविचल जैन, नरेन्द्र मांडिल उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *