छत्तीसगढ़ में पहली बार आयोजित होगा नेशनल ट्राइबल डांस फेस्टिवल

Spread the love

रायपुर। जनजातीय और लोक नृत्यों को राष्ट्रीय स्तर का मंच प्रदान करने तथा छत्तीसगढ़ के पर्यटन को बढ़ावा देने राजधानी रायपुर में पहली बार नेशनल ट्राइबल डांस फेस्टिवल का आयोजन किया जाएगा। इसी तरह छत्तीसगढ़ की खेल प्रतिभाओं विशेषकर ग्रामीण क्षेत्रों में छुपी प्रतिभाओं को निखारने के लिए राज्य में खेल महोत्सव का आयोजन किया जाएगा।

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने शनिवार को यहां अपने निवास कार्यालय में राज्य में नेशनल ट्राइबल डांस फेस्टिवल और खेल महोत्सव के आयोजन के संबंध में बैठक ली और तैयारियों के संबंध में अधिकारियों को शीघ्र समय-सारणी तय कर ब्लाक और जिला स्तर पर प्रतियोगिताएं आयोजित कराने के निर्देश दिए। नेशनल ट्राइबल डांस फेस्टिवल की फायनल प्रतियोगिताएं 28 और 29 दिसंबर को राजधानी रायपुर के साइंस कॉलेज मैदान में आयोजित होंगी। वहीं खेल महोत्सव की राज्य स्तरीय स्पर्धाएं रायपुर के विभिन्न खेल मैदानों में आयोजित होंगी तथा समापन कार्यक्रम स्वामी विवेकानंद की जयंती 12 जनवरी को होगा।

मुख्यमंत्री बघेल ने कहा कि छत्तीसगढ़ जनजाति बहुल राज्य है। यहां की संस्कृति और कला की अपनी एक विशिष्ट पहचान है। यहां पंथी, करमा, सुआ, राउत नाचा सहित अलग-अलग क्षेत्रों में अलग-अलग जनजातीय और लोक नृृत्य प्रचलित हैं जो विभिन्न अवसरों पर किए जाते हैं। इन नृत्यों को राष्ट्रीय स्तर पर मंच प्रदान करने के लिए राजधानी रायपुर में पहली बार नेशनल ट्राइबल डांस फेस्टिवल छत्तीसगढ़-2019 का आयोजन किया जाएगा। इस आयोजन में प्रदेश के लोक कलाकार और नर्तक दलों के साथ ही देश के विभिन्न जनजातीय  राज्यों के लोक कलाकार और नर्तक दल हिस्सा लेंगे। इस आयोजन में अंतरराष्ट्रीय स्तर के लोकनर्तक दलों को भी आमंत्रित किया जाएगा।

छत्तीसगढ़ के पर्यटन, संस्कृति और कला को राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भी पहचान मिल सके इसके लिए आवश्यक प्रचार-प्रसार के साथ आयोजन स्थल पर प्रदर्शनी भी लगायी जाएगी। देश के जनजाति बहुल राज्यों के मुख्यमंत्रियों को आमंत्रित किया जाएगा साथ ही अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भी अतिथियों को आमंत्रित करेंगे। इसमें शामिल लोक कलाकारों को छत्तीसगढ़ के पर्यटन स्थलों का भ्रमण कराया जाएगा।

बैठक में गृह एवं पर्यटन मंत्री  ताम्रध्वज साहू, कृषि एवं जल संसाधन मंत्री रविन्द्र चौबे, स्कूल शिक्षा एवं आदिम जाति विकास मंत्री डॉ. प्रेमसाय सिंह टेकाम, खाद्य एवं संस्कृति मंत्री  अमरजीत भगत, खेल एवं युवा कल्याण मंत्री उमेश पटेल, वन एवं पर्यावरण मंत्री मोहम्मद अकबर, मुख्य सचिव सुनील कुजूर, मुख्यमंत्री के प्रमुख सचिव  गौरव द्विवेदी, प्रमुख सचिव रेणु जी. पिल्ले, सचिव आदिम जाति विकास डीडी सिंह, संस्कृति विभाग के सचिव सोनमणि बोरा, सचिव खेल एवं युवा कल्याण सिद्धार्थ कोमल सिंह  और विशेष सचिव अविनाश चंपावत सहित अन्य अधिकारी उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *