वरदमूर्ति मिश्रा ने पीजी कॉलेज में संभाला छिंदवाड़ा विश्वविद्यालय के कुलसचिव का पदभार

Spread the love

छिंदवाड़ा।  जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी वरदमूर्ति मिश्रा ने शनिवार को पीजी कॉलेज में छिंदवाड़ा विश्वविद्यालय का कुलसचिव का अतिरिक्त कार्यभार ग्रहण किया। वह दोपहर में कॉलेज में पहुंचे। उन्होंने कॉलेज के प्रशासनिक अधिकारियों को विश्वविद्यालय से संबंधित आगे की प्रक्रिया के कार्य को लेकर दिशा निर्देश दिए। वहीं कॉलेज प्रबंधन से ऑफिस के लिए कमरे की डिमांड की। गौरतलब है कि मध्यप्रदेश राजपत्र में छिंदवाड़ा विश्वविद्यालय के प्रकाशन के बाद अब आगे की प्रक्रिया के लिए शासन ने शुक्रवार को आगामी आदेश तक जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी वरदमूर्ति मिश्रा को छिंदवाड़ा विश्वविद्यालय का कुलसचिव का अतिरिक्त कार्यभार सौंपा है। माना जा रहा है कि वर्तमान सत्र से ही छिंदवाड़ा विश्वविद्यालय का संचालन पीजी कॉलेज में किया जाएगा। कुलसचिव वरदमूर्ति मिश्रा ने बताया कि वह शनिवार को पीजी कॉलेज में कुलसचिव का पद्भार ग्रहण करने पहुंचे थे। अब आगे लेखा-जोखा बनाया जाएगा।

जल्द होगी कॉलेजों की बैठक
कुलसचिव के पद्भार ग्रहण करने के बाद अब छिंदवाड़ा विश्वविद्यालय से जुड़े चार जिलों के कॉलेजों की जानकारी जुटाई जा रही है। जल्द ही सभी कॉलेजों की बैठक भी बुलाई जा जाएगी। गौरतलब है कि किसी भी विश्वविद्यालय में कुलसचिव(रजिस्टार)प्रशासनिक कार्य देखते हैं। वहीं कुलपति ओवरऑल सर्वेसर्वा होता है। विशेषज्ञों की मानें तो छिंदवाड़ा विवि के कुलसचिव प्रशासनिक कर्मचारियों के साथ मिलकर जल्द ही नियम और परिनियम बनाएंगे। जिसे मप्र विश्वविद्यालय परिषद काउंसलिंग बैठक में रखा जाएगा।

हर बिन्दू पर बनेंगे नियम
छिंदवाड़ा विश्वविद्यालय के संचालन से पहले कॉलेजों की संबद्धता शुल्क सहित विभिन्न बिन्दुओं पर नियम बनाए जाएंगे। जिसे काउंसलिंग की बैठक में रखा जाएगा। बैठक में पास होने के बाद इसे क्रियान्वित किया जाएगा।

अगले माह मुख्यमंत्री कर सकते हैं भूमिपूजन
छिंदवाड़ा विश्वविद्यालय के लिए सारना में जमीन आवंटन के बाद जल्द ही भूमि पूजन भी हो सकता है। माना जा रहा है कि जुलाई के प्रथम सप्ताह में मुख्यमंत्री कमलनाथ का छिंदवाड़ा आगमन होगा। उसी समय मुख्यमंत्री छिंदवाड़ा विश्वविद्यालय के लिए भूमि पूजन कर सकते हैं। कुलसचिव वरदमूर्ति मिश्रा ने बताया कि वह शनिवार को पीजी कॉलेज में कुलसचिव का पद्भार ग्रहण करने पहुंचे थे। अब आगे विश्वविद्यालय से संबंधिता लेखा-जोखा तैयार किया जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *