UN बैठक में बोले PM मोदी- अगली पीढ़ी के लिए धरती की सेहत को दुरुस्त रखना हमारा काम

ब्यूरो रिपोर्ट समाचार भारती

देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने संयुक्त राष्ट्र की एक वर्चुअल हाई लेवल संवाद को संबोधित किया. यह संवाद मरुस्थलीकरण, भूमि क्षरण और सूखे पर केंद्रित रहा. पीएम मोदी ने अपने संबोधन में कहा कि मानव गतिविधियों से भूमि को हुए नुकसान को फिर से ठीक करने की सामूहिक जिम्मेदारी भी मानव समाज की ही है. यह हमारा दायित्व है कि हम अपनी अगली पीढ़ी को एक स्वस्थ्य धरती दें.

पीएम मोदी ने कहा कि लैंड डिग्रेडेशन से विश्व के 2 तिहाई हिस्से पर असर पड़ा है. इस पर ध्यान नहीं दिया गया है. यह हमारे समाज, अर्थव्यवस्था, खाद्य सुरक्षा, सेफ्टी और क्वॉलिटी लाइफ के आधार पर बुरा असर डालेगा. इसलिए हमें धरती और उसके स्रोत के अत्याधिक दोहन को कम करना होगा. हमारे लिए बहुत सारे काम बचे हुए हैं. हम इसे साथ मिलकर कर सकते हैं. पीएम मोदी ने कहा कि भारत में जमीन को हमेशा महत्व दिया गया है.

पीएम मोदी ने कहा कि हम धरती को पवित्र मानते हैं और इसे मां का दर्जा देते हैं. भारत ने लैंड डिग्रेडेशन के मसले को अंतर्राष्ट्रीय मंचों पर पहुंचाया है. पीएम मोदी ने कहा कि हम मानते हैं कि भूमि की बहाली से मिट्टी के अच्छे स्वास्थ्य के लिए एक चक्र शुरू हो सकता है जिससे भूमि उत्पादकता, खाद्य सुरक्षा और बेहतर आजीविका बढ़ेगी. भारत के कई हिस्सों में, हमने कुछ नए तरीके अपनाए हैं.

बता दें कि यह बैठक संयुक्त राष्ट्र महासभा के अध्यक्ष द्वारा बुलाई गई थी. पीएम मोदी कॉन्फ्रेंस ऑफ द पार्टीज टू द यूनाइटेड नेशन्स कन्वेन्शन टू कॉम्बैट डेजर्टिफिकेशन के 14वें सत्र के अध्यक्ष हैं.