आईआईटी कानपुर में आयोजित किया गया रिबूट हैकाथॉन

Spread the love

आईआईटी कानपुर ने किया साइबर सिक्योरिटी के समाधान खोजने के लिए हैक & रिबूट हैकाथॉन में आयोजित किया वेबिनार

ब्यूरो चीफ़ आरिफ़ मोहम्मद कानपुर

स्टार्टअप इन्क्यूबेशन एवं इनोवेशन सेंटर, आईआईटी कानपुर द्वारा इलेक्ट्रॉनिकी और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा समर्थित TIDE 2.0 कार्यक्रम के अंतर्गत राष्ट्रीय स्तर की सबसे बड़ी डिजिटल हैकाथन, हैक एंड रिबूट, का आयोजन किया जा रहा है। इस हैकाथन का मुख्य उद्देश्य कोविड-19 के पश्चात आने वाली चुनौतियों का तकनीकी रूप से समाधान करना है, जिसमें स्वास्थ्य, शिक्षा, साइबर सुरक्षा एवं वित्तीय समावेशन क्षेत्रों के लिए स्वदेशी समाधान बनाने पर बल दिया जा रहा है |

प्रतिभागियों को सहयोग प्रदान करने हेतु आयोजित की जा रही वेबिनार श्रृंखला में 7 सितंबर को साइबर सुरक्षा पर चर्चा हुई | वेबिनार का संचालन निदेशक C3i Hub IIT कानपुर पद्मश्री डॉ मणीन्द्र अग्रवाल ने किया। प्रतिभागियों के साथ विचार विमर्श करते हुए वेबिनार में NTTDATA के सीनियर वाईस प्रेसिडेंट डॉ हर्ष विनायक ने कहा कि साइबर सुरक्षा हेतु सदैव संशय में रहें और किसी भी तकनीकी यंत्र पर विश्वासना करें। उन्होंने बताया कि NTTDATA ने SIIC के साथ भागीदारी का लगभग एक वर्ष पूरा किया है और इस भागीदारी से वह अत्यंत गर्वान्वित हैं।

प्रो0 संदीप शुक्ला ने प्रतिभागियों से भारतीय सेमीकंडक्टर उद्योगों से सम्बन्धित जरूरतों पर ध्यान केंद्रित करने को कहा और हार्डवेयर की आपूर्ति श्रृंखला को सक्रिय करने पर जोर दिया। इसी चर्चा मंं प्रो0 देबदीप मुखोपाध्याय ने अंतरराष्ट्रीय कंपनियों द्वारा इमेजिंग आधारित तकनीक पर विचार प्रस्तुत किये। तत्पश्चात डॉ मणीन्द्र अग्रवाल ने प्रतिभागियों को इस हैकाथन में बढ़-चढ़कर भाग लेने को कहा ।

तीन चरणों में आयोजित हो रही इस हैकाथॉन के नतीजे 10 अक्टूबर को बताए जाएंगे। सफल प्रतिभागियों को 1 करोड़ तक कि इन्क्यूबेशन सहायता मिलेगी। इस सहायता के अंतर्गत आविष्कार हेतु SIIC में इंक्यूबेट होने का अवसर, प्रोटोटाइप बनाने के लिये 10 लाख की मदद, टीम के दो साथियों को 25-25 हज़ार की फ़ेलोशिप सहायता, अंतिम वर्ष के छात्र-छात्राओं को SIIC की इंक्यूबेटेड कम्पनियों के साथ इंटर्नशिप करने का अवसर आदि प्रदान किया जायेगा |

प्रतियोगिता में भाग लेने की अंतिम तिथि 12 सितंबर है।
अधिक जानकारी हेतु कृपया इस वेबलिंक पर जाएं – https://siicincubator.com/hackandreboot/

स्टार्टअप इनक्यूबेशन एंड इनोवेशन सेंटर (SIIC), IIT कानपुर के बारे में
वर्ष 2000 में स्थापित, स्टार्टअप इनक्यूबेशन एंड इनोवेशन सेंटर (SIIC), IIT कानपुर देश के सबसे पुराने और श्रेष्ठ प्रौद्योगिकी व्यवसाय इन्क्यूबेटरों में से एक है | विगत २ दशकों में SIIC ने ढेरों सफल स्टार्टअप्स बनाने में अपना सहयोग दिया है जैसे कि curadev बायोफार्मा, weather-risk एडवाइजरी, Geokno, ई-स्पिन नैनोटेक, आरव अनमैन्ड सिस्टम्स और फूल । SIIC ने अपने 120 से अधिक स्टार्टअप के हमारे पोर्टफोलियो के द्वारा सैकड़ों करोड़ रुपये की फंडिंग और 3000 से अधिक नौकरियां उत्पन्न कीं | कृषि, स्वास्थ्यसेवा, एयरोस्पेस, ऊर्जा, पानी, शिक्षा आदि के क्षेत्रों में काम कर रहे या करने के इच्छुक स्टार्टअप्स और इंटरप्रेन्योर हमारी स्कीम्स के माध्यम से सहायता और मार्गदर्शन प्राप्त कर सकते हैं |
वेबसाइट: https://siicincubator.com/tech-talks/
ट्विटर:https://twitter.com/IncubatorIITK
फेसबुक:https://www.facebook.com/IncubatorIITK/
लिंक्डइन:https://www.linkedin.com/company/incubatoriitk/

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *