आई आई टी कानपुर से सेंटर फॉर रेलवे रिसर्च का हुआ समझौता व दिया ज्ञापन

Spread the love

ब्यूरो चीफ़ आरिफ़ मोहम्मद कानपुर नगर

भारतीय रेलवे ने अनुसंधान केंद्र स्थापित करने और रेलवे के लिए अनुसंधान और विकास में तेजी लाने के लिए आईआईटी कानपुर के साथ अपने समझोते को विस्तार प्रदान किया

भारतीय रेलवे, ने भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (आईआईटी) कानपुर के सेंटर फॉर रेलवे रिसर्च (सीआरआर) के माध्यम से अपनी वैज्ञानिक संपत्तियों के कुशल उपयोग के लिए और रेलवे इन्फ्रास्ट्रक्चर के आधुनिकीकरण के लिए अत्याधुनिक सहयोगी अनुसंधान को प्रोत्साहित करने के लिए आई आई टी कानपुर के साथ समझौता ज्ञापन का विस्तार किया है।

सुश्री अलका अरोरा मिश्रा, प्रधान कार्यकारी निदेशक (टीएंडएमपीपी), रेल मंत्रालय और प्रोफेसर ए०आर० हरीश, डीन, आरएंडडी, आईआईटी कानपुर के बीच समझौता ज्ञापन पर रेलवे बोर्ड के अध्यक्ष और सीईओ, विनोद कुमार यादव, प्रो अभय करंदीकर निदेशक आई आई टी कानपुर, महानिदेशक (HR), PED (T & MPP) वशिष्ठ जौहरी, महाप्रबंधक, दक्षिणी रेलवे, और प्रोफेसर आर० हेगड़े, हेड, रेलवे अनुसंधान केंद्र (CRR) आई आई टी कानपुर की मौजूदगी में हस्ताक्षर किए गए। प्रो० अजीत के० चतुर्वेदी, निदेशक, आईआईटी रुड़की, प्रो० भास्कर राममूर्ति, निदेशक, आई आई टी मद्रास, प्रो० रवींद्र गेट्टू, आई आई टी मद्रास भी इस अवसर पर शामिल थे।

प्रो अभय करंदीकर ने इलेक्ट्रॉनिक्स, सेंसर नेटवर्क, IoT, पावर इलेक्ट्रॉनिक्स, और इलेक्ट्रिकल सुरक्षा के क्षेत्रों में अत्याधुनिक तकनीकों के विकास के लिए भारतीय रेलवे के आधुनिकीकरण के संदर्भ में इस सहयोग के महत्व पर बात की। उन्होंने भारतीय रेलवे के लिए प्रासंगिकता के क्षेत्रों में आईआईटी कानपुर में किए जा रहे संबंधित अनुसंधान और विकास गतिविधियों पर भी चर्चा की।

यह समझोता इलेक्ट्रिकल लोकोमोटिव, प्रेरक शक्ति, लोकोमोटिव नियंत्रण और संचार प्रणाली, ट्रैक्शन इंस्टॉलेशन, कंडीशन बेस्ड मॉनिटरिंग, सिग्नल प्रोसेसिंग का उपयोग करके ट्रेन और ट्रैक सुरक्षा, पावर और वाहन नियंत्रण इलेक्ट्रॉनिक्स, ड्राइवर इंटरफ़ेस सिस्टम, ट्रेन स्तर सेंसर नेटवर्क और इन्टरनेट ऑफ़ थिंग्स (IoT), विद्युत सुरक्षा, नेटवर्क नियंत्रण, आई आई टी कानपुर में सेंटर फॉर रेलवे रिसर्च (CRR) के माध्यम से संबंधित तकनीकी क्षेत्रों में स्टाफ प्रशिक्षण के साथ साथ मुख्य क्षेत्र में अनुसंधान की सुविधा प्रदान करेगा l वर्तमान में सीआरआर की अपनी प्रशासनिक इकाई है जो इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग विभाग में स्थित है। आई आई टी कानपुर में इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग विभाग में सेंटर फॉर रेलवे रिसर्च (CRR) को लोको रिसर्च एंड प्रोपल्शन टेक्नोलॉजीज, ट्रैक्शन इंस्टॉलेशन / OHE और संबंधित इलेक्ट्रॉनिक्स के व्यापक अनुसंधान डोमेन के साथ सौंपा गया है।

भारतीय रेल के बारे में :

भारतीय रेलवे (IR) विश्व के सबसे बड़े रेलवे सिस्टम में से एक है जो अरबों यात्रियों को पहुँचाता है और सालाना 1000 मिलियन टन से अधिक माल ढुलाई करता है। लोकोमोटिव और अन्य रोलिंग स्टॉक के उत्पादन के लिए भारतीय रेलवे की अपनी सुविधाएं भी हैं। उत्कृष्ट संचार प्रणाली बुनियादी ढांचे का समर्थन करती हैं। अपनी अभूतपूर्व वृद्धि को जारी रखने के लिए, भारतीय रेलवे ने प्रौद्योगिकी समर्थित नवीन समाधानों पर एक बड़ी वापसी की शुरुआत की है। इसका उद्देश्य सेवाओं की गुणवत्ता में सुधार करना है और साथ ही साथ लागत प्रबंधन करते हुए रेल अवसंरचना के उत्पादक उपयोग को बढ़ाना है। भारतीय रेलवे का लक्ष्य आईआईटी जैसे राष्ट्रीय शिक्षण संस्थानों के समर्थन से स्वदेशी प्रौद्योगिकियों के विकास के माध्यम से प्रौद्योगिकी के आयात को पूरक बनाना है।

आईआईटी कानपुर के बारे में:

भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान, कानपुर, 1959 में स्थापित, भारत सरकार द्वारा स्थापित प्रमुख संस्थानों में से एक है। संस्थान का उद्देश्य उच्चतम स्तर का मूल अनुसंधान करने और तकनीकी नवाचार में नेतृत्व प्रदान करने के लिए सार्थक शिक्षा प्रदान करना है। आईआईटी कानपुर के शोधकर्ता अपने क्षेत्र में अक्सर उच्च स्तरीय शोध करते हैं। आई आई टी कानपुर द्वारा किए गए अनुसंधान परियोजनाओं की विविधता संस्थान में अनुसंधान के मजबूत ट्रैक रिकॉर्ड का एक उपाय है। यह संस्थान में किए गए मौलिक अनुसंधान और अनुप्रयुक्त अनुसंधान के बीच महान तालमेल का परिणाम है। अनुसंधान वातावरण एक छोटे समूह द्वारा किए गए अत्यधिक रचनात्मक कार्यों का समर्थन करता है। एक ही समय में वातावरण आई आई टी कानपुर में किए गए बड़े मिशन महत्वपूर्ण असाइनमेंट के प्रबंधन के लिए उपयुक्त है। आई आई टी कानपुर की अनुसंधान क्षमताओं का लाभ उठाते हुए अनुसंधान संगठनों को निर्णायक बढ़त मिल सकती है। आई आई टी कानपुर की क्लाइंट सूची में दुनिया भर की अग्रणी कंपनियां शामिल हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *