कानपुर में 21 शिक्षकों को किया गया सम्मानित

Spread the love

शिक्षक दिवस पर अपने गुरु का सम्मान जिलाधिकारी कानपुर देहात

ब्यूरो चीफ़ आरिफ़ मोहम्मद कानपुर देहात

शिक्षक दिवस पर डीएम ने सोशल डिस्टेसिंग के साथ 21 शिक्षकों को किया सम्मानित
डीएम ने शिक्षकों को परिवेश बदलने की दी नसीहत

कानपुर देहात,जिलाधिकारी डा0 दिनेश चन्द्र की अध्यक्षता में कलेक्ट्रेट सभाकक्ष में शिक्षक सम्मान दिवस कार्यक्रम का आयोजन हुआ। कार्यक्रम में कोविड-19 को ध्यान में रखते हुए सोशल डिस्टेसिंग का पालन किया गया। कार्यक्रम में जिलाधिकारी द्वारा जनपद के 21 शिक्षक/शिक्षिकाओं को प्रतीक चिन्ह, प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित किया।
जिलाधिकारी डा0 दिनेश चन्द्र ने शिक्षक दिवस सम्मान समारोह के दौरान शिक्षक गुरू सर्वपल्लीराधाकृष्णन के चित्र पर माल्यार्पण व दीप प्रज्जवलित किया। वहीं शिक्षकों ने गुरू वन्दना की। इस मौके पर जिलाधिकारी ने कहा कि गुरू से बढ़कर कुछ नही है। आज भी हमारें जीवन में गुरू सबसे अहम कड़ी है हम और आप जहां बैठें वह गुरू की ही अनुकम्पा से है। हर ग्रन्थों में भी गुरू का वर्णन है। वह व्यक्ति उत्क्रष्ठ उचाईयों पर नही पहुंचता जिस व्यक्ति के प्रति गुरूयों के प्रति आदर नही है। वैसे तो प्रथम गुरू माता, पिता को माना गया है यदि उनके द्वारा संस्कार में कुछ कमियां रहती है तो प्रथम पायदान पर ही बेसिक शिक्षा का गुरू गुरू ही होता है। उनके लिए कृत्यगता शब्द कहें तो वह भी शब्द छोटा है भीर और गंभीर शिक्षकों द्वारा सद्मार्ग का रास्ता है। वहीं व्यायाम खेल शिक्षा में बेहतर स्थान पाने वाले शिक्षकों व बच्चों को उन्होंने आभार प्रकट किया, जबकि जिलाधिकारी ने किताबी ज्ञान के अलावा संस्कार पर भी शिक्षकों को ध्यान देने की बात कही तथा अभिभावकों द्वारा जहां प्राइवेट शिक्षा की ओर रूझान हो रहा है इस मामले में परिवेश बदलने के लिए जोर दिया जिससे जबकि सरकारी शिक्षा में बेहतर योग शिक्षक के साथ साथ बेहतर परिवेश सहित हर सुख सुविधायें है। जहां 7 सितम्बर से पोषण माह चालू हो रहा है। इसमें भी भागीदारी आवश्यक है जिससे अतिकुपोषित व कुपोषित बच्चों को स्वस्थ्य बनाने में भी भागीदारी आवश्यक है तथा मुख्यमंत्री जी ने सेम मेम के मामले में गौशालाओं में मौजूद गायो को अतिकुपोषित, कुपोषित परिवारों को गाय उपलब्ध कराते हुए तीस रूपये प्रतिदिन के हिसाब से गायों के भरण पोषण के लिए धनराशि देने के लिए लोग सहयोगी बने। यहीं नही बेसिक शिक्षा अधिकारी सुनील दत्त से कहा कि ग्रामीण परिवेश वाले शिक्षकों को कम से कम 101 गायों को उन्हें सहभागिता योजना के तहत उपलब्ध कराये तथा 30 रूपये प्रतिदिन के हिसाब से धनराशि भी दी जायेगी। वहीं अपर जिलाधिकारी प्रशासन पंकज वर्मा ने अपने शिक्षण काल को याद करते हुए चार मित्रों व अपने गुरू का जिक्र किया। यही नहीं उन्होने जिलाधिकारी की ओर इसारा करते हुए कहा कि उनके मार्ग दर्शन में मेरठ व गोरखपुर में मेरे द्वारा कार्य किया गया है। इनसे जो सीखने का ज्ञान मिला यह आज हमें बहुत ही कारगर साबित हो रहा है और पुनः जिलाधिकारी महोदय के साथ तीसरे जनपद कानपुर देहात में उनके साथ कार्य करने का अवसर मिला यह भी हमारे लिए सुखद छण है। वहीं बेसिक शिक्षा अधिकारी सुनील दत्त ने मुख्य अतिथि का सम्मान किया। इस मौके अधिकारीगण व शिक्षक, शिक्षकायें पुष्पा देवी, स्मृति तिवारी, पुष्पा यादव, बहादुर सिंह, प्रकाश मोहन मिश्रा, सत्यम जोशी, आनन्त त्रिवेदी, सारिका कटियार, रामकुमार, नंदिता, शिल्पा पालीवाल, प्रकाश मोहन मिश्र आदि उपस्थित रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *