कुख्यात अपराधी का साथी पुलिस मुठभेड़ में हुआ घायल

Spread the love

कुख्यात अपराधी विकास दुबे का साथी दयाशंकर की पुलिस से मुठभेड़ में हुआ घायल

लखनऊ से धीमान चतुर्वेदी के साथ कानपुर से आरिफ मोहम्मद की रिपोर्ट

कानपुर के चौबेपुर में पुलिस टीम पर हमला करने में शामिल हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे के साथी दयाशंकर अग्निहोत्री और कल्याणपुर पुलिस के बीच रविवार सुबह शिवली रोड पर मुठभेड़ हो गई. जहां चेकिंग के दौरान पुलिस ने अग्निहोत्री को रोकने का प्रयास किया, लेकिन उसने पुलिस पर फायर कर दिया. वहीं पुलिस की जवाबी फायरिंग में वह पैर में गोली लगने से घायल हो गया. जिसके बाद पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया.

चेकिंग के दौरान पुलिस पर किया फायर
मुठभेड़ में घायल हुए दयाशंकर अग्निहोत्री पर 25 हजार का इनाम घोषित किया गया था. रविवार सुबह अग्निहोत्री शिवली से जवाहरपुरम की ओर जा रहा था. तभी वहां संदिग्ध व्यक्तियों की चेकिंग अभियान में लगी पुलिस ने उसे रोकने का प्रयास किया, लेकिन उसने गाड़ी की रफ्तार और तेज कर दी. उसी रास्ते पर कुछ दूरी पर खड़ी पुलिस ने उसे दोबारा रोका, तो उसने पुलिस टीम पर फायर कर दिया. वहीं, पुलिस की ओर से की गई जवाबी फायरिंग में वह पैर में गोली लगने से घायल हो गया. जिसके बाद पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया. कल्याणपुर इंस्पेक्टर ने बताया कि घायल आरोपी को अस्पताल में भर्ती कराया है. उसके पास से एक तमंचा और दो कारतूस भी बरामद किए हैं.

48 घंटे बाद भी पुलिस के हाथ खाली
पुलिस टीम पर हमला कर 8 पुलिसकर्मियों की हत्या करने का मुख्य आरोपी हिस्ट्रीशीटर विकास वारदात के 48 घंटे बाद भी हाथ नहीं लगा है. एसटीएफ समेत पुलिस की कई टीमें उसकी तलाश कर रही हैं. वहीं, विकास के गुर्गों में श्यामू बाजपेई, छोटू शुक्ला ,जेसीबी चालक मोनू, जहान यादव, दयाशंकर अग्निहोत्री, शशिकांत, पंडित शिव तिवारी, विष्णु पाल, राम सिंह, राम बाजपेई, अमर दुबे, प्रभात मिश्रा, गोपाल सैनी, वीरू भवन, शिवम दुबे, बालगोविंद और बउवा दुबे शामिल हैं. इनपर 25-25 हजार का इनाम घोषित है.

क्या थी पूरी घटना?
चौबेपुर के बिकरू गांव में गुरुवार देर रात पुलिस धारा 307 के एक मामले में हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे को गिरफ्तार करने गई थी. यहां विकास और उसके गुर्गों ने घरों की छत से पुलिसकर्मियों पर अंधाधुंध फायरिंग कर दी, साथ ही पुलिसकर्मियों के हथियार भी लूट लिए थे. इस घटना में बिल्हौर सीओ देवेंद्र मिश्रा समेत तीन दारोगा और चार कांस्टेबल शहीद हो गए. हमले में सात पुलिसकर्मी भी घायल हुए थे, जिनका कानपुर जिले के रीजेंसी अस्पताल में इलाज चल रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *