भू जल संकट को देखते हुए, जल स्तर की मॉडलिंग

Spread the love

पश्चिमोत्तर भारत के भूजल संकट से बचाव के लिए जल स्तर की मॉडलिंग

ब्यूरो चीफ़ आरिफ़ मोहम्मद कानपुर

उत्तर पश्चिमी भारत में अकुशल सिंचाई पद्धतियों द्वारा भूजल संसाधनों की अधिकता ने भूजल संकट पैदा कर दिया है। दिल्ली विश्वविद्यालय, आईआईटी कानपुर, बनारस हिंदू विश्वविद्यालय, राष्ट्रीय भूभौतिकीय अनुसंधान संस्थान और डरहम विश्वविद्यालय के शोधकर्ताओं के एक दल ने पश्चिमोत्तर भारत के भूजल संकट के भविष्य का आकलन किया है और भारत सरकार के प्रभाव ने सिंचाई जल में 20 प्रतिशत सुधार का प्रस्ताव “नेचुरल इरिगेशन रिपोर्ट”, में दिया है, जो कि एक नेचरल पब्लिशिंग जर्नल साइंटिफिक रिपोर्ट्स में प्रकाशित हुआ है जिसका शीर्षक है “बेहतर सिंचाई उपयोग दक्षता के जवाब में उत्तर पश्चिमी भारत के जल स्तर की मॉडलिंग” ।
उत्तर पश्चिमी भारत को दुनिया में भूजल की कमी के सबसे बड़े केंद्र के रूप में जाना जाता है और पिछले कुछ दशकों के दौरान भूजल की कमी की दर असाधारण रही है। इस क्षेत्र का एक बड़ा हिस्सा खाद्यान के क्षेत्र में कृषि मांग का समर्थन करने के लिए अत्यधिक सहयोगी रहा है जिसे अक्सर भारत की खाद्य टोकरी के रूप में जाना जाता है। इस पेपर के सह-लेखक आई.आई.टी कानपुर, सिविल इंजीनियरिंग विभाग के वरिष्ठ प्रोफेसर डॉ० राजीव सिन्हा कहते हैं, हालांकि, इस क्षेत्र में भूजल के अंधाधुंध उपयोग ने बहुत ही विकट स्थिति पैदा कर दी है। भूजल का स्तर गहरा और गहरा होता जा रहा है और वे वर्तमान वर्षा से पर्याप्त रिचार्ज नहीं होते हैं। इसलिए यह महत्वपूर्ण है कि मौजूदा स्थिति का आकलन किया जाए और सिमुलेशन अध्ययन के माध्यम से भूजल स्तर के भविष्य के रुझानों की भविष्यवाणी की जाए ताकि स्थायी रणनीति तैयार की जा सके।
एक कैलिब्रेटेड और मान्य भूजल प्रवाह मॉडल का उपयोग करते हुए, वैज्ञानिक रिपोर्ट में प्रकाशित अध्ययन की भविष्यवाणी है कि अगर इसी तरह से भूजल स्तर में इसी अनुपात में गिरावट आती रही तो वर्ष 2017 के भूजल स्तर की तुलना में, वर्ष 2028 तक भूजल स्तर में हरियाणा के कुरुक्षेत्र जिले में 2.8 मीटर की दर से लगभग 28 मीटर की गिरावट आएगी। दिल्ली विश्वविद्यालय से इस पत्र के मुख्य लेखक प्रोफेसर शशांक शेखर का कहना है कि यह एक पूरी तरह से विनाशकारी स्थिति है और उपयुक्त उपाय अपनाकर इसे तत्काल रोकने का प्रयास किया जाना चाहिए। यद्यपि यह गिरावट पंजाब के पटियाला, संगरूर, फतेहगढ़ साहिब जिलों और हरियाणा के अंबाला जिले में 1.2 से 2.4 मीटर प्रति वर्ष की दर से 12 से 24 मीटर की सीमा में अपेक्षाकृत कम होगी, लेकिन समग्र तस्वीर अभी भी काफी गंभीर है। पंजाब के अन्य हिस्सों जैसे भटिंडा, मनसा, सिरसा, लुधियाना और हरियाणा के कुछ हिस्सों जैसे कैथल, जींद, हिसार, भिवानी, रोहतक के कुछ हिस्सों, यमुनानगर, सोनीपत और पानीपत के लिए इसी तरह की भविष्यवाणी से पता चलता है कि जल स्तर में लगभग एक दशक में 5 से 10 मीटर और गिरावट आएगी ।
इस अध्ययन ने भूजल अमूर्तता में 20 प्रतिशत की कमी के साथ कंप्यूटर मॉडल आधारित सिमुलेशन को भी अंजाम दिया है और जिसके परिणाम पूरे क्षेत्र में स्थानिक रूप से विविध जलभृत प्रतिक्रिया दिखाते हैं। अधिकतम सकारात्मक प्रभाव कुरुक्षेत्र, पटियाला, संगरूर, फतेहगढ़ साहिब और अंबाला के कुछ हिस्सों में गंभीर रूप से अति-संपन्न जिलों में देखा जाता है। इन जिलों में, भूजल के अमूर्तन में 20 प्रतिशत की कमी, जल स्तर की गिरावट दर को वर्ष 2028 तक इन क्षेत्रों में वर्तमान में 0.6-2.5 मीटर / वर्ष से लगभग 0.2-1.6 मीटर / वर्ष तक धीमा कर सकती है। यह बदलाव 36-67 प्रतिशत जो इस क्षेत्र में बहुमूल्य भूजल संसाधन की एक बड़ी राशि बचा सकता है।
इस अध्ययन से पता चलता है कि हालांकि बढ़ती सिंचाई उपयोग दक्षता मूर्त लाभ प्रदान करती है, कृषि जल प्रबंधन अभ्यास के लिए एक एकीकृत दृष्टिकोण जो जल-कुशल फसल पैटर्न और वर्षा जल संचयन जैसे अन्य उपायों के साथ दक्षता का उपयोग करता है, कम अवधि में बेहतर परिणाम प्राप्त कर सकता है।
इस अध्ययन के निष्कर्षों में गंगा के मैदानों के अधिकांश हिस्सों में व्यापक प्रभाव और प्रयोज्यता है, आईआईटी कानपुर के इस पत्र के सह-लेखक प्रो राजीव सिन्हा कहते हैं कि यूपी और बिहार के कई हिस्सों में भी भूजल का दोहन निरंतर दर पर किया जा रहा है और इससे यहाँ पर भी हरियाणा और पंजाब जैसी ही स्थिति पैदा हो सकती है, जहां भूजल के स्तर में गिरावट के अलावा, मिट्टी की लवणता की गंभीर समस्या और कृषि उत्पादकता के नुकसान की तमाम रिपोर्ट्स है। प्रो० सिन्हा यूपी के कुछ हिस्सों को कवर करते हुए बुंदेलखंड में भी काम कर रहे हैं और इस क्षेत्र से इसी तरह के निष्कर्ष सामने आए हैं, जो पहले से ही देश में पानी के संकट वाले क्षेत्र के रूप में जाना जाता है। इस मुद्दे पर एक राष्ट्रीय बहस काफी समय से चल रही है लेकिन यह कठोर वैज्ञानिक अध्ययन के आधार पर एक प्रबंधन योजना को एक साथ रखने का समय है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *