हाथरस के बाद कानपुर देहात में भी दिल दहला देने वाली घटना आई सामने, करीब एक सप्ताह से लापता थी किशोरी

Spread the love

कानपुर से ब्यूरो चीफ आरिफ मोहम्मद की रिपोर्ट

कानपुर देहात।यूपी के हाथरस की घटना के बाद एक और दिल दहला देने वाली घटना कानपुर देहात में भी सामने आई है। जहां 8 दिनों से लापता एक नाबालिग दलित किशोरी के कंकाल के टुकड़े और कपड़े बाजरे के खेत पर पड़े। खेत में ऐसा दृश्य देख ग्रामीणों के होश फाख्ता हो गए। नाबालिग दलित किशोरी के परिजनों ने कपड़े से किशोरी की पहचान की। सूचना पर भारी पुलिस बल के साथ मौके पर पहुंचे पुलिस अधिकारियों ने परिजनों और ग्रामीणो से पूछताछ करते हुए मामले की जांच शुरू की। वहीं फॉरेसिंक टीम ने घटनास्थल से साक्ष्य एकत्र किए हैं। पुलिस ने किशोरी के कंकाल और बालों को मेडिकल परीक्षण के लिए भेज दिया है। वहीं परिजनों ने पुलिस की कार्यशैली पर सवाल खड़े करते हुए गंभीर आरोप लगाए हैं। पुलिस की ओर से 2 आरोपियों को भी हिरासत में लेने की बात कही जा रही है।

मामला है जनपद कानपुर देहात के रूरा थाना क्षेत्र के गहोलिया गांव का है, जहां आज खेतो में काम कर रहे ग्रामीणों को एक नाबालिग किशोरी के कपड़े, कंकाल के टुकड़े और उसके बाल बाजरे के खेत मे पड़े मिले। जिसकी सूचना से गांव में सनसनी फैल गई। सूचना पर मौके पर पहुंची पुलिस ने 8 दिन से लापता 16 वर्षीय किशोरी के पिता को बुलाया। मौके पर पहुंचे पिता ने कपड़ो से अपनी पुत्री के रूप में शिनाख्त की। दरअसल गहोलिया गांव निवासी की 16 वर्षीय बेटी 26 सितम्बर को रहस्यमय ढ़ंग से गायब हो गई थी। जिसके बाद परिजनों ने उसकी काफी तलाश की, लेकिन सफलता हांथ नहीं लगी। जिसके बाद पीड़ित परिवार रूरा थाने पहुंचा, जहां पुलिस ने गुमसुदगी दर्ज कर मात्र खानापूरी कर ली। आज 8 दिन बाद गांव के बाहर बाजरे के खेत में एक लड़की के शरीर के टुकड़े, बाल और कपड़े ग्रामीणों को पड़े दिखे।

सूचना पर मौके पर पहुंची पुलिस ने पिता को शिनाख्त के लिए मौके पर बुलाया। बेटी की तलाश में परेशान पिता और उसका परिवार पुलिस के बुलावे पर मौके पर पहुंचे। जैसे ही पिता ने बाजरे के खेत में पड़े उसके कपड़ों को देखा तो उनके होश उड़ गए। कपड़ों से उन्होंने बेटी की शिनाख्त की। पिता ने बताया वह 26 सितंबर से लापता थी। अपनी लाडली के शरीर के टुकड़े देख पिता और उसका परिवार बिलख उठा। नाबालिग के पिता ने गांव के ही 5 लोगो पर पुरानी जमीनी विवाद में नाबालिग को अगवा कर रेप करने और उसके बाद उसकी निर्मम हत्या कर शव बाजरे के खेत मे फेक देने का आरोप लगाया है। साथ ही पुलिस की कार्यशैली पर गंभीर आरोप लगाया है। 8 दिन से लापता किशोरी को लेकर एक बार फिर पुलिस की कार्यशैली पर सवाल खड़े हो गए है कि 8 दिनों तक पुलिस क्या करती रही।

वहीं सूचना पर भारी पुलिस बल के साथ मौके पर पहुंचे पुलिस अधिकारियों ने परिजनों और ग्रामीणों से पूछताछ की। पुलिस ने नाबालिग के टुकड़े, बाल और कपड़ो को मेडिकल परीक्षण के लिए भेज दिया है। वहीं पुलिस अधिकारी इसे पुरानी जमीनी विवाद की बात कह रहे हैं। साथ ही जल्द कार्यवाही करने का दावा भी कर रहे हैं। वहीं पुलिस ने 2 आरोपियों को हिरासत में लेकर पूछताछ शुरू कर दी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *