जलवायु परिवर्तन पर कार्रवाई में भारत की सहभागिता बहुत अहम, यूएन ने की पीएम मोदी की तारीफ

Spread the love

नई दिल्ली। जलवायु शिखर सम्मेलन 2019 के लिए संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंटोनियो गुटेरस के विशेष दूत ने कहा कि जलवायु परिवर्तन के खिलाफ कदम उठाने के लिए भारत की सहभागिता बहुत महत्वपूर्ण है और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जलवायु संबंधी मामलों में नेतृत्व जारी रखने की पुन: प्रतिबद्धता जताई है।

संयुक्त राष्ट्र प्रमुख के विशेष दूत लुइस अल्फोंसो डी अल्बा ने कहा, ‘भारत का सहयोग व सहभागिता इसलिए भी बेहद अहम है क्योंकि वह एक बड़ा उत्सर्जक है। प्रधानमंत्री मोदी ने कुछ दिन पहले ही बिआरित्ज के जी-7 शिखर सम्मेलन से इतर एक बैठक में गुटेरस को जलवायु संबंधी मामलों और खासकर सौर ऊर्जा के संबंध में नेतृत्व जारी रखने की प्रतिबद्धता दोहराई थी।

सौर ऊर्जा बहुत बड़ी और बहुत महत्वपूर्ण पहल है।’ डी अल्बा ने जलवायु परिवर्तन से निपटने में एशियाई देशों से मिली प्रतिक्रिया संबंधी एक सवाल का जवाब देते हुए इस दिशा में भारत के नेतृत्व का उदाहरण पेश किया। मोदी ने गुटेरस से मिलने के बाद ट्वीट किया था, ‘हमने कई मामलों, खासकर जलवायु परिवर्तन के प्रभावों को कम करने के प्रयासों को मजबूत करने पर विस्तृत विचार-विमर्श किया।’

भारतीय कंपनियों की सराहना
संयुक्त राष्ट्र के अधिकारी ने भारतीय कंपनियों के प्रयासों की भी सराहना की। उन्होंने कहा, ‘मैंने हाल में भारत की यात्रा की और सीमेंट उद्योग समेत बड़ी संख्या में अनेक कंपनियों – टाटा, महिंद्रा जैसी कंपनियों के साथ बैठक की। ये उद्योग जलवायु परिवर्तन से निपटने के लिए अपनी भागीदारी बढ़ा रहे हैं।’ अल्बा ने चीन को संदेश दिया कि उसे ‘बेल्ट एंड रोड’ पहल में हरियाली पर ध्यान केंद्रित करना चाहिए।
मोदी कर सकते हैं संबोधित
संयुक्त राष्ट्र महासचिव जलवायु परिवर्तन पर पेरिस समझौता लागू करने के लिए उपायों में तेजी लाने के मकसद से 23 सितंबर को शिखर सम्मेलन की मेजबानी करेंगे। इस सम्मेलन में विश्व के 100 से अधिक नेताओं के भाग लेने की उम्मीद है। अन्य नेताओं के साथ मोदी भी इस सम्मेलन को संबोधित कर सकते हैं। इसके तहत संयुक्त राष्ट्र युवा जलवायु परिवर्तन कार्रवाई शिखर सम्मेलन भी आयोजित किया जाएगा।
जलवायु परिवर्तन शिखर सम्मेलन में सीडीआरआई की शुरुआत करेंगे प्रधानमंत्री
केंद्रीय मंत्रिमंडल ने दिल्ली में सहायक सचिवालय कार्यालय सहित आपदा प्रबंधन आधारभूत संरचना पर अंतरराष्ट्रीय गठबंधन (सीडीआरआई) की स्थापना का फैसला लिया है। हालांकि इस प्रस्ताव को प्रधानमंत्री ने 13 अगस्त को ही मंजूरी दे दी थी।

प्रधानमंत्री न्यूयार्क में 23 सितंबर को संयुक्त राष्ट्र जलवायु परिवर्तन शिखर सम्मेलन में इसकी शुरुआत करेंगे। संयुक्त राष्ट्र महासचिव द्वारा यह शिखर सम्मेलन जलवायु परिवर्तन के प्रभावों और इससे होने वाली आपदाओं से निपटने के राष्ट्राध्यक्षों की प्रतिबद्धता सुनिश्चित करने के लिए आयोजित किया जाता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *